home page

छोटे किसानों के लिये वरदान मिनी पावर टिलर, जानिए मशीन की कीमत, उपयोग और फीचर

 | 
powar tiller
हमारे देश में कृषि कार्यों के लिए आधुनिक कृषि यंत्रों का उपयोग लोकप्रियता में बढ़ रहा है। आधुनिक मशीनों की मदद से कम समय और श्रम में खेती और बागवानी की जा सकती है। ये मशीनें फसल उगाने की लागत को कम करने में मदद करती हैं, जिससे किसानों के पैसे की बचत हो सकती है।

हमारे देश में कृषि कार्यों के लिए आधुनिक कृषि यंत्रों का उपयोग लोकप्रियता में बढ़ रहा है। आधुनिक मशीनों की मदद से कम समय और श्रम में खेती और बागवानी की जा सकती है। ये मशीनें फसल उगाने की लागत को कम करने में मदद करती हैं, जिससे किसानों के पैसे की बचत हो सकती है।

कृषि के कामों के लिए अलग-अलग कृषि यंत्रों जैसे- रोटावेटर, हैरो, कल्टीवेटर, सीड ड्रिल, थ्रेसर आदि की जरूरत होती है। बड़े किसान तो आसानी से इन यंत्रों  को खरीद सकते हैं, लेकिन आर्थिक स्थिति कमजोर होने से छोटे किसान इन यंत्रों को खरीदने में सक्षम नहीं होते हैं।

जो किसान अपना काम अधिक कुशलता से करना चाहते हैं, उनके लिए एक विशेष कृषि मशीन है जो मदद कर सकती है। इसे मिनी पावर टिलर कहा जाता है। इससे किसान खेती से जुड़े कई काम थोड़े से प्रयास से कर सकता है। इस मशीन की मदद से किसान कम समय में और कम मेहनत में खेत की जुताई कर सकता है और खेतों में बांध बनाने में आसानी हो सकती है. वे सब्जी के खेतों में मेड़ों के बीच संवाद करने, खरपतवारों को मिटाने आदि के लिए भी मशीन का उपयोग कर सकते हैं।

आज हम किसानों को मिनी पावर टिलर मशीनों के बारे में जानकारी प्रदान कर रहे हैं। इन मशीनों में कई विशेषताएं हैं जो किसानों के लिए फायदेमंद हो सकती हैं, और वे आम तौर पर उचित मूल्य टैग के साथ आती हैं। प्रसिद्ध कंपनियों के मॉडल के अलावा, जो आमतौर पर बाजार में पाए जाते हैं, कुछ क्षेत्रों में विशेष रूप से सफल कंपनियों के मॉडल पर चर्चा की जाएगी।

मिनी पावर टिलर क्या है? 

मिनी पावर टिलर पावर टिलर का छोटा रूप है। यह एक शक्तिशाली उपकरण है जिसका उपयोग मिट्टी तक या लकड़ी काटने के लिए किया जा सकता है। इस उपकरण से कई कृषि कार्य पूरे किए जा सकते हैं। यह मशीन किसानों के लिए उपयुक्त है। इस टूल की मदद से किसान खेती कर सकते हैं और बागवानी के काम आसानी से कर सकते हैं। इस मशीन का उपयोग खेतों में विभिन्न प्रकार के कार्यों के लिए किया जाता है, जैसे पोखर, जुताई, समतल करना, बुवाई, रोपाई, कीटनाशक छिड़काव और निराई।

इसका उपयोग पानी पंप करने, कटाई, फसलों के परिवहन और अन्य कार्यों के लिए भी किया जा सकता है। मिनी पावर टिलर एक छोटी मशीन है जो छोटे और सीमांत किसानों द्वारा उपयोग में आसान है। इसे आसानी से पढ़ा जा सकता है। यह उन्हें एक मशीन पर अपना सारा काम पूरा करने की अनुमति देकर उनके समय और धन की बचत करेगा। यह पावर टिलर पानी और पहाड़ी क्षेत्रों में सब्जी की खेती के लिए उपयुक्त है।

इन वातावरणों में काम करने वाले किसानों के लिए विशेष रूप से डिज़ाइन किया गया, यह आपकी भूमि का अधिकतम लाभ उठाने के लिए एक मूल्यवान उपकरण है। मिनी पावर टिलर कठिन इलाके के लिए एकदम सही है। यह इस भार के तहत हल्का भी है। एक जगह से दूसरी जगह ले जाना भी आसान है।

मिनी पावर टिलर के प्रकार

मिनी पावर टिलर अलग-अलग प्रकार के मॉडल्स में मिलते हैं, जैसे- 2 एचपी, 3 एचपी पावर टिलर, 5 एचपी पावर टिलर और 7 एचपी, 9 एचपी पावर टिलर। 

प्रमुख मिनी पावर टिलर निर्माता कंपनियां

बाजार में होंडा, वीएसटी शक्ति, कुबोटा, केएमडब्लू मेगा किलोस्कर, ग्रीव्स कॉटन, श्राची कंपनियों के पावर टिलर उपलब्ध हैं। हम यहां इनमें से प्रमुख मिनी पावर टिलर की जानकारी दे रहे हैं, जो 9 एचपी या उससे कम पावर के हैं।

वीएसटी 95 डीआई इग्निटो (VST 95 DI Ignito)

 power tiller

ये पावर टिलर वीएसटी कंपनी द्वारा निर्मित मिनी पावर टिलर हैं। इसकी पावर क्षमता 9एचपी है। इसी कंपनी का आरटी 65 मॉडल आता है जिसकी पावर क्षमता 6-7 एचपी होती है।

होंडा एफ 300 (Honda F300)

power tiller

ये होंडा कंपनी द्वारा निर्मित मिनी ट्रांसफार्मर है। इसकी पावर क्षमता 2 एचपी है। इसी कंपनी का एफजे 500 मॉडल भी आता है जिसकी पावर क्षमता 3.8 एचपी है। 

मिनी पावर टिलर मशीन के उपयोग से किसानों को लाभ

मिनी पावर टिलर के इस्तेमाल से किसानों को अनेक लाभ प्राप्त होते हैं। ये लाभ इस प्रकार से हैं-

  • मिनी पावर टिलर से खेती और बागवानी के कई कार्य किए जा सकते हैं।
  • यह खेतों में पडलिंग, सूखे खेत की जुताई, समतलीकरण आदि कार्य आसानी से करता है।
  • इसकी सहायता से फसलों की बुआई, रोपाई के अलावा कीटनाशकों का छिडक़ाव भी किया जा सकता है।
  • इस मशीन की सहायता से निराई-गुड़ाई, खेत में पानी पंप करना, फसल की कटाई, फसल की ढुलाई जैसे काम भी आसानी से किए जा सकते हैं।
  • इसमें अलग-अलग काम के लिए, अलग-अलग कृषि उपकरण जोड़े जा सकते हैं।
  • इस मशीन के प्रयोग से समय और श्रम कम लगता है जिससे पैसों की बचत होती है।

पावर टिलर पर कितनी सब्सिडी मिल सकती है

पावर टिलर की खरीद पर अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, छोटे और सीमांत किसानों, महिलाओं और पूर्वोत्तर राज्यों के लाभार्थियों को 8 हॉर्सपावर से कम वाले पावर टीलर पर कुल कीमत की 50 फीसदी सब्सिडी मिलती है। सब्सिडी की अधिकतम राशि 50 हजार रुपए है।

8 हॉर्सपावर से अधिक वाले पावर टीलर पर भी 50 फीसदी सब्सिडी का प्रावधान है। इसमें सब्सिडी की अधिकतम राशि की सीमा 75 हजार रुपए है। वहीं अन्य किसानों को 40 प्रतिशत सब्सिडी मिलती है। 8बीएचपी से कम वाले पावर टीलर पर 40 हजार हजार और 8बीएचपी से अधिक वाले पर 60 हजार की सब्सिडी दी जाती है।