home page

मध्यप्रदेश के किसानों के लिए आई बड़ी गुड न्यूज, 5985 रूपये प्रति क्विंटल के रेट से होगी चने की खरीद

मध्य प्रदेश के किसानों के लिए एक बड़ी राहत की खबर है। अब चना की खरीद 5,985 रुपये प्रति क्विंटल की दर से की जाएगी। नेफेड (नेशनल एग्रीकल्चरल कोऑपरेटिव मार्केटिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया) ने हर सप्ताह मूल्य...
 | 
purchase rate of gram
   
WhatsApp Group Join Now

मध्य प्रदेश के किसानों के लिए एक बड़ी राहत की खबर है। अब चना की खरीद 5,985 रुपये प्रति क्विंटल की दर से की जाएगी। नेफेड (नेशनल एग्रीकल्चरल कोऑपरेटिव मार्केटिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया) ने हर सप्ताह मूल्य स्थिरीकरण कोष योजना के तहत चना की दर निर्धारित करने का फैसला किया है।

इससे किसानों को उचित मूल्य पर उनके उत्पाद का विक्रय करने का अवसर मिलेगा। मध्य प्रदेश में समर्थन मूल्य पर चना की खरीद किसानों के लिए एक बड़ी राहत है। नेफेड द्वारा हर सप्ताह मूल्य स्थिरीकरण कोष योजना के तहत चना की दर निर्धारित करने से किसानों को उचित मूल्य मिल सकेगा।

यह नीति किसानों को आर्थिक स्थिरता प्रदान करेगी और उनकी मेहनत का सही मूल्य दिलाएगी। इससे किसानों को भविष्य में भी लाभ मिलेगा और उनकी आर्थिक स्थिति में सुधार होगा।

समर्थन मूल्य पर चना खरीद का महत्व

इन दिनों मध्य प्रदेश में समर्थन मूल्य पर चना की खरीद जारी है। नेफेड ने इस सप्ताह के लिए महाराष्ट्र में चना खरीद की दर 6,115 रुपये और राजस्थान में 5,995 रुपये प्रति क्विंटल निर्धारित की है।

यह कदम किसानों को बाजार में चने का सही दाम दिलाने के उद्देश्य से उठाया गया है। इससे किसानों को बाजार में मूल्य की उतार-चढ़ाव की चिंता नहीं करनी पड़ेगी और उन्हें स्थिरता का लाभ मिलेगा।

उत्पादन में कमी और उसका प्रभाव

पिछले कुछ दिनों से बाजार में चना की कीमतें एमएसपी (न्यूनतम समर्थन मूल्य) से अधिक थीं। जिससे किसानों को उनकी उपज का उचित मूल्य नहीं मिल पा रहा था। इस साल चना का उत्पादन पिछले साल की तुलना में कम हुआ है।

जिसके कारण बाजार में चने की कीमतें बढ़ गई थीं। उत्पादन में कमी को देखते हुए केंद्र सरकार ने चना खरीद की नीति में संशोधन किया है।

नई नीति और किसानों का लाभ

अब नई नीति के अनुसार बाजार भाव ऊपर-नीचे होने पर हर सप्ताह चना के एमएसपी का निर्धारण किया जाएगा। यह नीति सुनिश्चित करेगी कि किसानों को उनके उत्पाद का उचित मूल्य मिल सके। केंद्र सरकार ने देसी चने के आयात शुल्क में भी कमी की है। जिससे घरेलू बाजार में चने की उपलब्धता बढ़ सके और कीमतों में स्थिरता आ सके।

नेफेड की भूमिका

नेफेड चना खरीद प्रक्रिया को सरल और पारदर्शी बनाने के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। इससे किसानों को उनके उत्पाद का उचित मूल्य प्राप्त करने में मदद मिल रही है। नेफेड द्वारा हर सप्ताह मूल्य स्थिरीकरण कोष योजना के तहत चना की दर निर्धारित की जाती है, जिससे बाजार में मूल्य स्थिरता बनी रहे।

चना उत्पादकों के लिए राहत

मध्य प्रदेश के चना उत्पादक किसानों के लिए यह नीति एक बड़ी राहत है। इससे किसानों को बाजार में बेहतर कीमत प्राप्त होगी और उन्हें आर्थिक स्थिरता मिलेगी। चना खरीद की यह नई नीति किसानों के हित में है और उन्हें बाजार में उचित मूल्य दिलाने में मददगार साबित होगी।

नई नीति से भविष्य में भी किसानों को लाभ

चना खरीद की इस नई नीति से भविष्य में भी किसानों को लाभ होगा। इससे किसानों को उनके उत्पाद का सही दाम मिलेगा और उन्हें बाजार की उतार-चढ़ाव की चिंता नहीं होगी। यह नीति किसानों को आत्मनिर्भर बनाने और उनकी आर्थिक स्थिति को सुधारने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी।