home page

Haryana News: हरियाणा में मकान बनाने और मरम्मत करवाने के लिए सरकार दे रही इतने लाख रूपए, जाने कैसे कर सकते है आवेदन

वर्ष 2018 में शुरू की गई प्रधानमंत्री आवास योजना ने देश के नागरिकों को घर का सपना साकार करने का एक सुनहरा अवसर दिया है।
 | 
people-of-haryana-are-in-for-a-treat
   

वर्ष 2018 में शुरू की गई प्रधानमंत्री आवास योजना ने देश के नागरिकों को घर का सपना साकार करने का एक सुनहरा अवसर दिया है। इस योजना के अंतर्गत विशेष रूप से शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों के पात्र लोगों को मकान बनाने या मरम्मत करने के लिए आर्थिक सहायता दी जाती है। यह सहायता तीन किश्तों में दी जाती है जिससे लाभार्थी अपने घर का निर्माण इस तरीके से पूरा कर सकें।

योजना की विशेषताएं और लाभ

प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) के तहत अब तक 1508 लोगों को नए मकान बनाने के लिए और 219 लोगों को मकानों की मरम्मत के लिए सहायता राशि आवंटित की गई है। नए मकान बनाने के लिए 2.50 लाख रुपये और मरम्मत के लिए 1.50 लाख रुपये तक की राशि प्रदान की जाती है। यह राशि विशेष जांच प्रक्रिया के बाद, जिसमें पांच स्तरों पर मूल्यांकन होता है, लाभार्थियों के खातों में सीधे जमा की जाती है।

आवेदन प्रक्रिया और पात्रता की जांच

इस योजना के लिए लगभग दस हजार आवेदन प्राप्त हुए थे जिनमें से 1508 लोगों को पात्र पाया गया। आवेदनों की जांच के लिए सर्वे टीमों ने व्यापक परीक्षण किया, जिससे योजना का लाभ उन्हीं तक पहुंचे जो वास्तव में इसके हकदार हैं। इस प्रक्रिया के तहत पहली किस्त के रूप में 724 लोगों को, दूसरी किस्त के रूप में 702 लोगों को, और तीसरी किस्त के रूप में 618 लोगों को अब तक सहायता दी गई है।

हमारा Whatsapp ग्रूप जॉइन करें Join Now

किश्तों की पूरी जानकारी

मकान निर्माण और मरम्मत के लिए किश्तों का वितरण इस प्रकार से किया जाता है कि पहली किश्त नींव रखने के लिए, दूसरी किश्त लैंटर डालने के लिए और तीसरी किश्त मकान के पूर्ण निर्माण के लिए दी जाती है। इसी तरह, मरम्मत के लिए भी तीन किश्तों में पैसा दिया जाता है जिससे मरम्मत का कार्य भी क्रमबद्ध तरीके से संपन्न हो सके।

  1. मकान बनाने के लिए 2.50 लाख
  2. पहली क़िस्त 1 लाख रूपये
  3. दूसरी क़िस्त 1 लाख रूपये
  4. तीसरी क़िस्त 50 हजार रूपये
  5. मकान मरम्मत के लिए 1.50 लाख
  6. पहली क़िस्त 60 हजार रूपये
  7. दूसरी क़िस्त 60 हजार रूपये
  8. तीसरी क़िस्त 30 हजार रूपये