home page

Alcohol Limit: इस लिमिट से ज्यादा शराब रखने पर हो सकती है कानूनी कार्रवाई, जान ले क्या कहता है कानून

आज के समय में, घरेलू सामान (Home Goods) की तरह ही, शराब (Liquor) भी कई घरों में एक सामान्य वस्तु बन चुकी है। हालांकि, इसके रख-रखाव से संबंधित कुछ कानूनी प्रावधान (Legal Provisions) हैं...
 | 
how much alcohol can be store in homes

आज के समय में, घरेलू सामान (Home Goods) की तरह ही, शराब (Liquor) भी कई घरों में एक सामान्य वस्तु बन चुकी है। हालांकि, इसके रख-रखाव से संबंधित कुछ कानूनी प्रावधान (Legal Provisions) हैं, जिनका पालन करना हर नागरिक के लिए अनिवार्य है।

दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi High Court) के एक आदेश के अनुसार, 25 वर्ष से अधिक उम्र के व्यक्ति को तय मात्रा में शराब रखने की अनुमति है। इस निर्देश में व्हिस्की (Whisky), जिन (Gin), रम (Rum), वोडका (Vodka) और बीयर (Beer) सहित अन्य शराब की मात्रा का स्पष्ट उल्लेख है। 

इस प्रकरण से यह स्पष्ट होता है कि शराब संग्रहण के कानूनी दायित्वों (Legal Obligations) का ज्ञान होना चाहिए। यह न केवल व्यक्तिगत स्वतंत्रता (Personal Freedom) का प्रश्न है, बल्कि सामाजिक जिम्मेदारी (Social Responsibility) का भी है।

दिल्ली हाईकोर्ट का यह निर्णय नागरिकों को संदेश देता है कि वे कानूनी सीमाओं (Legal Limits) के भीतर रहकर अपने जीवनशैली के विकल्पों का आनंद लें।

दिल्ली हाईकोर्ट के निर्णय का महत्व

दिल्ली हाईकोर्ट के इस निर्णय ने शराब रखने की अधिकतम सीमा (Maximum Limit) पर प्रकाश डाला है। जहां एक व्यक्ति 9 लीटर तक व्हिस्की, जिन, रम, और वोडका रख सकता है।

वहीं 18 लीटर तक बीयर के साथ-साथ वाइन (Wine) और एल्कोपॉप्स (Alcopops) भी रख सकता है। इस नियम का उद्देश्य अवैध शराब के व्यापार (Illegal Trade) और अत्यधिक मात्रा में शराब के संग्रहण (Storage) को रोकना है।

दिल्ली हाईकोर्ट में प्रस्तुत चुनौती

एक विशेष मामले में, जहां एक परिवार के घर से 132 शराब की बोतलें जब्त की गई थीं, दिल्ली हाईकोर्ट ने दिल्ली एक्साइज एक्ट (Delhi Excise Act) के अनुसार कार्रवाई की थी।

यह मामला यह दर्शाता है कि कैसे शराब के संग्रहण की सीमा का निर्धारण करने में परिवार के सदस्यों की संख्या (Family Members) को भी ध्यान में रखा जाता है।

पुलिस की छापेमारी और कोर्ट का निर्णय

पुलिस द्वारा इस परिवार के घर पर छापेमारी (Raid) की गई थी, जिसमें बड़ी मात्रा में शराब जब्त की गई थी। हालांकि, कोर्ट में इस मामले की सुनवाई के बाद, FIR को रद्द कर दिया गया और आरोपियों पर किसी भी तरह की कार्रवाई करने से मना कर दिया गया।

यह निर्णय शराब संग्रहण (Liquor Collection) के कानूनी पहलुओं पर प्रकाश डालता है और नागरिकों को अपने अधिकारों और जिम्मेदारियों (Rights and Responsibilities) के प्रति सचेत करता है।