home page

AC के इस छिपे हुए बटन को ऑन करते ही हो जाएगा कमाल, ठंडी हवा के साथ कम आएगा बिजली बिल

अप्रैल का महीना आते ही गर्मी ने अपना प्रकोप दिखाना शुरू कर दिया है। इस समय घरों में बिना एयर कंडीशनर (एसी) या कूलर के रह पाना काफी मुश्किल हो गया है। लोगों ने एसी चलाना शुरू कर दिया है जिससे ठंडक तो....
 | 
how to reduce electricity bill
   
WhatsApp Group Join Now

अप्रैल का महीना आते ही गर्मी ने अपना प्रकोप दिखाना शुरू कर दिया है। इस समय घरों में बिना एयर कंडीशनर (एसी) या कूलर के रह पाना काफी मुश्किल हो गया है। लोगों ने एसी चलाना शुरू कर दिया है जिससे ठंडक तो मिलती है। लेकिन साथ ही बिजली का बिल भी तेजी से बढ़ने लगता है।

यदि आप गर्मियों में एसी चलाने के दौरान बिजली के बिल से परेशान हैं, तो ऑटो मोड का उपयोग करना सबसे अच्छा उपाय है। यह न केवल आपको बिजली बचाने में मदद करेगा बल्कि एसी की दक्षता और उसकी लंबी उम्र में भी योगदान देगा। इस तरह आप स्मार्ट तरीके से गर्मियों का सामना कर सकते हैं और अपनी जेब पर भी ज्यादा बोझ नहीं डालेंगे।

ये भी पढ़िए :- साबुन के बचे हुए टुकड़ों से भगा सकते है घर में छिपे कॉकरोच, बहुत कम लोगों को पता होता है ये देसी नुस्खा

बिजली बिल को कम करने के स्मार्ट उपाय

हालांकि बिजली की खपत को कम करने के लिए लोग कई घंटों के लिए एसी बंद कर देते हैं। फिर भी यह उपाय अधिक कारगर नहीं होता। लेकिन अगर आप एसी को चलाने के दौरान कुछ विशेष टिप्स और ट्रिक्स का उपयोग करें। 

तो निश्चित रूप से बिजली बचा सकते हैं। आज हम आपको एसी के एक विशेष मोड के बारे में बताने जा रहे हैं जिससे आपकी बिजली की खपत कम हो सकती है।

how to reduce electricity bill  (1)

एसी के विविध मोड्स का सही उपयोग

एयर कंडीशनर में अनेक प्रकार के मोड होते हैं जैसे ड्राई मोड, हीट मोड, स्लीप मोड, कूल मोड और ऑटो मोड। ये सभी मोड विभिन्न मौसमी स्थितियों और आवश्यकताओं के अनुसार सेट किए जाते हैं। इन मोड्स का सही से उपयोग करके आप एसी की दक्षता बढ़ा सकते हैं और बिजली के बिल को कम कर सकते हैं।

ये भी पढ़िए :- पुलिसवाले ने बहन की शादी में छपवाया अनोखा शादी का कार्ड, शादी में जरुर आना की जगह लिखी ऐसी बात की हो गया वाइरल

ऑटो मोड बिजली बचत का स्मार्ट तरीका

जब आप एसी को ऑटो मोड पर सेट करते हैं, तो यह टेम्प्रेचर के अनुसार अपने आप ऑपरेट होता है। इस मोड में एसी, कमरे के तापमान के आधार पर कूलिंग और हीटिंग को खुद ब खुद समायोजित करता है।

जैसे ही कमरा ठंडा होता है। एसी का कंप्रेसर बंद हो जाता है और जब तापमान बढ़ता है तो फिर से चालू हो जाता है। यह स्वचालित रूप से ऊर्जा की खपत को कम करता है और बिजली के बिल में कमी लाता है।