home page

चिलचिलाती गर्मी में AC को कितने नंबर पर चलाना चाहिए, बिजली बिल भी आएगा कम और कमरा भी होगा जल्दी ठंडा

गर्मियों के मौसम में तापमान की बढ़ोतरी के साथ ही एयर कंडीशनर (एसी) लगभग हर घर की जरूरत बन जाती है। धूप और उमस से राहत पाने के लिए लोग अक्सर अपने एसी को न्यूनतम तापमान पर सेट कर देते हैं।
 | 
ac-to-reduce-electric-bill-set-this-number
   

गर्मियों के मौसम में तापमान की बढ़ोतरी के साथ ही एयर कंडीशनर (एसी) लगभग हर घर की जरूरत बन जाती है। धूप और उमस से राहत पाने के लिए लोग अक्सर अपने एसी को न्यूनतम तापमान पर सेट कर देते हैं। हालांकि इससे जहां एक ओर तत्काल ठंडक का अहसास होता है।

वहीं दूसरी ओर यह आदत बिजली के बिल को आसमान छूने का कारण बनती है, साथ ही सेहत पर भी नकारात्मक प्रभाव डालती है। गर्मियों में एसी का इस्तेमाल करते समय सही तापमान सेटिंग, नियमित सर्विसिंग और ऊर्जा बचत के उपायों को अपनाने से न केवल बिजली के बिल में कमी आती है।

बल्कि यह स्वस्थ रहने के लिए भी अत्यंत लाभकारी होता है। आइए इस गर्मी में हम सभी एसी का समझदारी से और जिम्मेदारीपूर्वक उपयोग करें, ताकि हम न केवल अपने परिवेश को ठंडा रख सकें बल्कि अपनी जेब और सेहत दोनों की भी रक्षा कर सकें।

एसी का ऑप्टिमम तापमान

विशेषज्ञों का सुझाव है कि एसी को 24 डिग्री सेल्सियस पर सेट करना ऊर्जा की बचत और स्वास्थ्य दोनों के लिए उत्तम होता है। सरकार ने भी इस तथ्य को मानते हुए साल 2020 से एसी के लिए डिफॉल्ट सेटिंग को 24 डिग्री सेल्सियस पर निर्धारित किया है।

इस तापमान पर एसी चलाने से न केवल बिजली की खपत में कमी आती है बल्कि यह लंबे समय में एसी की दक्षता और जीवनकाल को भी बढ़ाता है।

एसी की सही सर्विसिंग

एसी की नियमित सर्विसिंग और मेंटेनेंस इसकी कूलिंग क्षमता को बनाए रखने के लिए अनिवार्य है। समय-समय पर एसी के फिल्टर को साफ करने और इसकी सर्विसिंग करवाने से इसकी दक्षता में सुधार होता है और बिजली की खपत घटती है। इसके अलावा एसी की उचित सर्विसिंग से कमरे में बर्फीली ठंडक की बजाय एक सुखद और स्वस्थ वातावरण बनता है।

एसी चलाने के स्वास्थ्यप्रद तरीके

एसी को 24 से 28 डिग्री सेल्सियस के बीच सेट करने से बिजली की बचत के साथ-साथ स्वास्थ्य के लिए भी कई लाभ होते हैं। इस तापमान सीमा में शरीर आरामदायक महसूस करता है और ठंड से जुड़ी समस्याएं जैसे कि सर्दी, खांसी और गले में दर्द आदि से बचा जा सकता है।