home page

शराब पीने वालों के लिए आज सुबह उठते ही आई बुरी खबर, शराब की कीमतों में आए उछाल ने उड़ाई सबकी नींद

भारत में शराब के शौकीनों के लिए हाल ही में एक बड़ा अपडेट सामने आया है। नए वित्तीय वर्ष के आगमन के साथ ही देशभर में शराब की कीमतों में वृद्धि हो गई है। इस बढ़ोतरी के पीछे नई एक्साइज पॉलिसी को मुख्य कारण...
 | 
liquor-becomes-costlier-from-today
   

भारत में शराब के शौकीनों के लिए हाल ही में एक बड़ा अपडेट सामने आया है। नए वित्तीय वर्ष के आगमन के साथ ही देशभर में शराब की कीमतों में वृद्धि हो गई है। इस बढ़ोतरी के पीछे नई एक्साइज पॉलिसी को मुख्य कारण बताया जा रहा है।

शराब की कीमतों में हुई इस वृद्धि से सरकार को तो अपेक्षित राजस्व मिलेगा। लेकिन आम उपभोक्ता पर इसका असर बोझिल हो सकता है। जहां एक ओर यह वृद्धि सरकार के राजस्व को बढ़ावा देगी। वहीं दूसरी ओर शराब प्रेमियों के बजट पर अतिरिक्त दबाव डालेगी।

नई एक्साइज पॉलिसी से शराब की कीमतों में उछाल

नई आबकारी नीति 2023-24 की मंजूरी के बाद से देश में शराब की लाइसेंस फीस और एक्साइज रेट में वृद्धि हुई है। इसके चलते बीयर, देसी और अंग्रेजी तीनों प्रकार की शराब की कीमतों में महत्वपूर्ण इजाफा हुआ है।

उत्तर प्रदेश, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश मे नए दाम लागू

उत्तर प्रदेश, छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश सरकारों ने शराब के नए रेट जारी कर दिए हैं। इन नए रेटों को आज से ही लागू कर दिया गया है। देसी शराब का पव्वा, अंग्रेजी शराब का क्वार्टर, हॉफ और फुल बोतल और बीयर के कैन और बोतल सभी महंगे हो गए हैं।

शराब महंगी होने के पीछे का कारण

नई आबकारी नीति के तहत शराब की लाइसेंस फीस और एक्साइज रेट में वृद्धि हुई है। केंद्र सरकार ने इस नीति के तहत अगले वित्त वर्ष में करीब 45 हजार करोड़ रुपये कमाने का लक्ष्य तय किया है।

उपभोक्ताओं पर असर

शराब की कीमतों में वृद्धि से उपभोक्ताओं पर सीधा असर पड़ेगा। विशेष रूप से उन लोगों पर जो शराब का सेवन नियमित रूप से करते हैं। बढ़ी हुई कीमतें उनके खर्च में इजाफा करेंगी।