home page

लोकसभा चुनाव से पहले योगी सरकार करने वाली है ये बड़ा काम, प्रदेश के 33 लाख युवाओं को किया रोजगार का वादा

लोकसभा चुनाव से पहले सीएम योगी आदित्यनाथ ने बड़ी घोषणा की है कि युवा लोगों को काम मिलेगा। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने घोषणा की है कि ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी से 33 लाख युवा सीधे नौकरी पाएंगे।
 | 
ceremony-will-provide-employment

लोकसभा चुनाव से पहले सीएम योगी आदित्यनाथ ने बड़ी घोषणा की है कि युवा लोगों को काम मिलेगा। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने घोषणा की है कि ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी से 33 लाख युवा सीधे नौकरी पाएंगे। यह उद्योग सड़कों, बिजली और पेयजल की व्यवस्थाओं का निर्माण करेंगे। नवनिर्माण होगा। आवासीय सुविधाएं भी बदल जाएंगी।

टैक्सी सेवाओं की मांग होगी। इस प्रकार विकास का चक्र चलेगा। गुरुवार को लोकभवन में हुए इंटरनेशनल ट्रेड शो के द्वितीय संस्करण के कर्टेन रेजर सेरेमनी में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने यह बातें कहीं। मुख्यमंत्री ने औद्योगिक आस्थानों और ODOPC FCC की 13 परियोजनाओं का उद्घाटन किया।

साथ ही विभिन्न जनपदों के पारंपरिक कारीगरों और हस्तशिल्पियों को सम्मानित किया। मुख्यमंत्री ने बताया कि प्रधानमंत्री 19 फरवरी को यूपी की चौथी ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी का उद्घाटन करेंगे। इस अवसर पर एक दिन में दस लाख करोड़ रुपये की योजनाएं बनाई जाएंगी। उनका दावा था कि उत्तर प्रदेश से निर्यात 86 लाख करोड़ रुपये से लगभग दो लाख करोड़ रुपये हो गया है।

हमने यूपी को बीमारू मानसिकता से उबारा

मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश को बीमार राज्य बनाना एक राजनीतिक मानसिकता थी, जिसे दूसरे नंबर की अर्थव्यवस्था में बदल दिया गया है। आज प्रदेश के परंपरागत कारीगर, शिल्पकार और युवा उद्यमी के चेहरे पर उत्साह है, जो पहले निराश था। आज, उत्तर प्रदेश की ODOP योजना आत्मनिर्भर भारत का आधार बन चुकी है। 

25 सितंबर से अंतर्राष्ट्रीय ट्रेड शो का द्वितीय संस्करण  

मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले वर्ष उत्तर प्रदेश में ग्रेटर नोएडा में इंटरनेशनल ट्रेड शो का आयोजन किया गया था। पहली बार एक फुट फॉल हुआ, जिसमें पांच सौ से अधिक विदेशी बायर्स, सत्तर हजार से अधिक लोग और तीन लाख से अधिक लोग शामिल हुए।

उनका कहना था कि ग्रेटर नोएडा में फिर से इंटरनेशनल ट्रेड शो का द्वितीय संस्करण 25 से 29 सितंबर के बीच होगा। यूपी इसके माध्यम से विश्व समाज को अपनी क्षमता दिखाने जा रहा है।

ODOP देश में यूनीक योजना

CM योगी ने कहा कि उत्तर प्रदेश के हस्तशिल्पी, कारीगर और युवा उद्यमियों के पास क्षमता थी, लेकिन उन्हें सरकार से प्रोत्साहन और प्लेटफार्म की जरूरत थी। प्रदेश में हजारों साल से सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग थे, लेकिन सरकारी उपेक्षा और इंस्पेक्टर राज के कारण उद्यमी त्रस्त हो गए और भाग गए।

2018 में हमने ODOP योजना शुरू की, जिसके बाद परंपरागत उद्यमों को टेक्नोलॉजी देने और मार्केट देने का काम शुरू हुआ। नतीजतन, आज यूपी की ओडीओपी देश में एक एकीकृत योजना बन गई है। आज ओडीओपी आत्मनिर्भर भारत का आधार बन चुकी है, जिस पर उत्तर प्रदेश गौरव करता है।

एमएसएमई मंत्री राकेश सचान, मुख्य सचिव दुर्गाशंकर मिश्र, आईआईडीसी मनोज कुमार, एसीएस अमित मोहन प्रसाद, इंडिया एक्सपो मार्ट के अध्यक्ष राकेश कुमार, विभागीय अधिकारी, जनप्रतिनिधि और राज्य भर से आए कलाकार, कारीगर और युवा उद्यमी इस अवसर पर उपस्थित थे।

13 परियोजनाओं का हुआ शुभारंभ

मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर एमएसएमई क्लस्टर पार्क योजना के तहत रायबरेली, मऊ, प्रतापगढ़ और महोबा में औद्योगिक अस्थानों का उद्घाटन किया. खाद्य एवं प्रसंस्करण के तहत कौशाम्बी में केला, गोण्डा और मक्का में ओडीओपी सीएफसी परियोजनाओं का उद्घाटन किया. मिनी औद्योगिक अस्थान बिल्हौर, कानपुर नगर, बछरावां रायबरेली और अयोध्या का उच्चीकरण 

श्रमसाधकों का हुआ सम्मान

CM योगी ने अपनी प्रतिभा से अपना स्थान बनाने वाले कर्मचारियों का भी सम्मान किया। बाराबंकी से राहुल (नाई), लखनऊ से निधि मल्होत्रा (दर्जी) और सीतापुर से फिरोज अहमद (मोची) को विश्वकर्मा श्रम सम्मान से सम्मानित किया गया।

ODOP प्रशिक्षण एवं टूलकिट वितरण योजना के तहत रायबरेली के रंजीत कुमार (काष्ठ कार्य), लखनऊ की सरिता भारती (चिकनकारी) और हरदोई की प्रतिभा यादव (वस्त्र उत्पाद) का सम्मान किया गया। गोरखपुर के कृष्ण कुमार प्रजापति (टेराकोटा), आजमगढ़ की पुष्पा प्रजापति (ब्लैक पॉटरी)।

सोनभद्र के धर्मु (मृदुभांड और नक्काशीदार फूलदान) को यूपी माटी कला पुरस्कार से सम्मानित किया गया। लखनऊ की शबाना खातून, मेरठ के शीषपाल और अमरोहा के कृष्णपाल को खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड द्वारा राज्यस्तरीय ग्रामोद्योगीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया।