home page

क्या आपका बच्चा भी दिनभर चलाता रहता है मोबाइल, इस तरीके से सुधार सकते है बच्चे की आदत

मोबाइल फोन आज के समय में हमारे जीवन का अभिन्न अंग बन गया है। छोटे बच्चों से लेकर बुजुर्गों तक हर किसी के हाथ में मोबाइल देखना आम बात है। लेकिन जब बात बच्चों की आती है, तो क्या आपको लगता है 2 से 10...
 | 
parenting tips (1)
   

मोबाइल फोन आज के समय में हमारे जीवन का अभिन्न अंग बन गया है। छोटे बच्चों से लेकर बुजुर्गों तक हर किसी के हाथ में मोबाइल देखना आम बात है। लेकिन जब बात बच्चों की आती है, तो क्या आपको लगता है 2 से 10 साल तक के बच्चों का मोबाइल चलाना जरूरी है क्या इस उम्र में सच में बच्चे मोबाइल से जरूरत का काम कर रहे हैं?

आजकल हर माता-पिता इसी बात को लेकर परेशान है कि उनका बच्चा दिन भर मोबाइल देखता रहता है बिल्कुल नहीं सुनता है। इतना ही नहीं जब कभी भी बच्चे से मोबाइल छीना जाता है तो वह चिल्लाने लगता है चीखने लगता है, तो ऐसे में कैसे बच्चों की मोबाइल देखने की आदत छुड़ाएं।

मोबाइल का बच्चों पर प्रभाव

2 से 10 साल के बच्चों के बीच मोबाइल फोन का इस्तेमाल एक गंभीर विषय है। इस उम्र में बच्चे अपने आस-पास के माहौल से सीखते हैं और उनका विकास होता है। अत्यधिक मोबाइल फोन का इस्तेमाल उनके विकास पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है।

मोबाइल की आदत कैसे लगती है?

कई बार माता-पिता खुद ही बच्चों को मोबाइल देने की आदत डाल देते हैं। खाना न खाने पर या रोने पर बच्चों को शांत करने के लिए मोबाइल दिखाना धीरे-धीरे उनमें इसकी आदत डाल देता है। इससे बच्चे मोबाइल के बिना रह ही नहीं पाते।

शांत रहें

जब कभी भी आपका बच्चा मोबाइल नहीं दे रहा है। पहले आप उसे प्यार से समझाएं। अगर नहीं सुनी तो फिर आप उस मोबाइल ले सकते हैं। लेकिन इस बात का ध्यान रखी कि जब आप ऐसा करेंगे तो बच्चे को गुस्सा बहुत आएगा।

जब आपका बच्चा गुस्सा हो तो सबसे पहले खुद को शांत रखना ज़रूरी है। यदि आप भी चिल्लाने लगेंगे तो स्थिति और भी खराब हो सकती है। धीरे और शांत आवाज में उनसे बात करें। आप थोड़ी देर शांत रहे उससे प्यार से बातें करें वह अपने आप ठीक हो जाएगा।

उनकी भावनाओं को समझें

यह समझने की कोशिश करें कि आपका बच्चा क्यों गुस्सा हो रहा है। क्या वे मोबाइल गेम खेलना चाहते थे? क्या वे किसी दोस्त से बात कर रहे थे? उनकी भावनाओं को स्वीकार करें और उन्हें बताएं कि आप उन्हें समझते हैं।

अगर आपका बच्चा मोबाइल में गेम खेलता है तो आप कोशिश करें कि आप अपने बच्चों के साथ इंडोर या आउटडोर गेम खेलें। आप उनकी भावनाओं को समझे उनसे बातें करें।

उन्हें विकल्प दें

बच्चे को यह न बताएं कि वे मोबाइल बिल्कुल नहीं देख सकते। इसके बजाय उन्हें कुछ अन्य गतिविधियों में व्यस्त करने के लिए विकल्प दें। उन्हें किताब पढ़ने, खेलने या बाहर जाने के लिए कहें।

अगर आपको लग रहा है कि आपका बच्चा मोबाइल ज्यादा चला रहा है या मोबाइल चलाने की आदत बढ़ती जा रही है तो ऐसे में आप उसे ऐसा विकल्प दें कि हम बाहर गार्डन में घूमने चलें या फिर हम बाहर खेलते हैं।

नियम निर्धारित करें

मोबाइल के उपयोग के लिए स्पष्ट नियम और समय सीमा निर्धारित करें। बच्चे को इन नियमों के बारे में पहले से बताएं और उनका पालन करने पर ज़ोर दें। आजकल मोबाइल देखना सभी बच्चे चाहते हैं, ऐसे में कई बार आपका बच्चा दूसरे बच्चों को देखकर मोबाइल चलाने की इज्जत करता है। ऐसी स्थिति में आप उनका समय निर्धारित कर सकते हैं।

अनुशासन बनाए रखें

यदि बच्चा नियमों का पालन नहीं करता है, तो उन्हें शांत तरीके से समझाएं। ज़रूरत पड़ने पर उन्हें कुछ देर के लिए मोबाइल से वंचित भी कर सकते हैं। लेकिन ऐसा करते समय कठोर या क्रूर न बनें। अगर आप चाहते हैं कि आपका बच्चा मोबाइल ना चलाएं तो आपको भी अपने बच्चों के सामने मोबाइल का ज्यादा उपयोग नहीं करना चाहिए।

खुद बनें एक आदर्श

बच्चे अपने माता-पिता को देखकर सीखते हैं। यदि आप खुद ज़्यादातर समय मोबाइल में व्यस्त रहते हैं, तो बच्चा भी ऐसा ही करेगा। इसलिए मोबाइल के उपयोग में संतुलन बनाए रखें और अपने बच्चे के लिए एक अच्छा उदाहरण पेश करें।

धैर्य रखें

बच्चों को आदत बदलने में समय लगता है। इसलिए धैर्य रखें और लगातार प्रयास करते रहें। धीरे-धीरे आपका बच्चा मोबाइल से स्वस्थ संबंध बनाना सीख जाएगा और गुस्से को नियंत्रित करना भी सीख जाएगा।