home page

बुजुर्ग दादा जी ने चलती ट्रेन में चढ़ने की कोशिश और फिसल गया पैर, बहादुर महिला RPF ने सही मौक़े पर आकर बचा ली जान वरना हो जाता हादसा

रेलवे की लाख चेतावनियों और सतर्कता की हिदायतों के बावजूद न जाने क्यों लोग अपनी ही जान का जोखिम उठाने पर उतारू रहते हैं. ज़रा सी जल्दी के लिए जीवनभर का रिस्क लेने के लिए तैयार हो जाते हैं. ऐसे में एक चूक आपकी जिंदगी लील सकती है.

 | 
Video:चलती ट्रेन में चढ़ने लगे दादा जी, तभी फिसल गया पैर, पटरियों के नीचे आने से पहले महिला RPF ने यूं बचाई जान
   

रेलवे की लाख चेतावनियों और सतर्कता की हिदायतों के बावजूद न जाने क्यों लोग अपनी ही जान का जोखिम उठाने पर उतारू रहते हैं. ज़रा सी जल्दी के लिए जीवनभर का रिस्क लेने के लिए तैयार हो जाते हैं. ऐसे में एक चूक आपकी जिंदगी लील सकती है.

आखिरी वक्त में ट्रेन पकड़ना या पटरियों को पार करने की जल्दबाजी में कई बार बड़े हादसे होते भी देखे गए हैं. जिसकी किस्मत अच्छी होती है उसे बचाने कोई फरिश्ता आ पड़ता है. लेकिन जो बदकिस्मत होता है उन्हें लेने सीधे यमराज ही पहुंचते हैं.

ये भी पढिए :- दुनिया का एक ऐसा रेस्टोरेंट जिसमें सारे कपड़ें उतारने के बाद मिलती है एंट्री, मोटे लोगों को तो दूर से कर देते है मना

ट्विटर अकाउंट @RPF_INDIA पर शेयर वीडियो में रेलवे प्लेटफार्म पर एक बुजुर्ग शख्स चलती ट्रेन में चढ़ने की कोशिश करने लगते हैं. लेकिन बैलेंस बिगड़ा और उनका पैर फिसलने से वो नीचे गिर पड़े. चलती ट्रेन की वजह से वो बस पटरियों के नीचे जाने ही वाले थे कि तभी एक जांबाज की तरह दौड़ती हुई आई महिला RPF कांस्टेबल और बुजुर्ग की जान बचा ली.

चलती ट्रेन पकड़ने के चक्कर में फिसल गए बुज़ुर्ग

वायरल वीडियो खुद RPF ने अपने ऑफ़िशियल ट्विटर अकाउंट पर शेयर किया है. जिसमें रेलवे प्लेटफार्म पर एक बुजुर्ग हाथ में सामान थामकर चलते दिखाई दिए. जो चलती ट्रेन में चढ़ने की कोशिश में करने लगते हैं. लेकिन उनका बैलेंस बिगड़ा और पैर फिसल गया.

हमारा Whatsapp ग्रूप जॉइन करें Join Now


जिसके बाद तो वो ट्रेन से ऐसा गिरे कि सीधे प्लेटफॉर्म की बजाए पटरियों में समाने वाले थे. लेकिन उनकी किस्मत अच्छी थी कि उसी वक्त एक महिला RPF जवान की नजर उनपर पड़ी और वो तेजी से दौड़ती हुई आई और उन्हें खींचकर बाहर निकाला. जिसके बाद प्लेटफॉर्म पर मौजूद कई और RPF कर्मी भी वहाँ आए और सभी ने उसकी मदद की.

महिला कॉन्सटेबल की बहादुरी से बची बुज़ुर्ग की जान

बुजुर्ग की किस्मत अच्छी थी कि महिला जवान उनके करीब ही मौजूद थी. जिसकी नजर उनपर पड़ गई. वरना अगर वहाँ कोई कर्मचारी नहीं होता, या मानवता से भरा इंसान मौजूद ना होता या वक्त रहते किसी की नजर उन पर न पड़ती तो जान बचाना मुश्किल हो जाता.

ये भी पढिए :- 1943 में 5वीं कक्षा का कुछ ऐसा दिखता था प्रश्न पत्र, आजकल के छात्र सवाल देखते ही खड़े कर देंगे हाथ

ये वीडियो उन लोगों के लिए एक सबक है, जो चलती ट्रेन या बस पर चढ़ने को अपनी काबिलियत समझते हैं या कुछ मिनटों का समय मैनेज करने की बजाय बड़े जोखिम को दावत दे बैठते हैं. जिसने भी वीडियो को देखा वो महिला RPF कॉन्टेबल की तारीफ किए बिना नहीं रह पाया. उसकी तेजी और समझदारी ने एक बुजुर्ग की जान बचा ली.