home page

Today Gold Price: अक्टूबर महीने की सबसे महंगी क़ीमत पर पहुंचा सोने का भाव, जाने 10 ग्राम सोने का ताजा भाव

देश में त्योहारी सीजन है, इसलिए लोग सोने-चांदी की ज्वैलरी, गिफ्ट आइटम्स, सिक्के आदि खरीदते हैं। हाल ही में घरेलू बाजार में सोने-चांदी की मांग बढ़ी है
 | 
Gold At All-Time High
   

देश में त्योहारी सीजन है, इसलिए लोग सोने-चांदी की ज्वैलरी, गिफ्ट आइटम्स, सिक्के आदि खरीदते हैं। हाल ही में घरेलू बाजार में सोने-चांदी की मांग बढ़ी है, लेकिन वैश्विक बाजार में सोना हमेशा ऊपर है। अक्टूबर 2023 तक गोल्ड की कीमत 2000 डॉलर प्रति औंस के पार चली जाएगी। इस साल की शुरुआत से ही सोने की कीमतें बढ़ी हैं। वर्तमान में सोने की कीमतें लगातार तीन हफ्तों से बढ़ती जा रही हैं, और आज चौथा हफ्ता है जब सोने की कीमतें स्थिर हैं।

क्यों चढ़ रहे हैं सुनहरी मेटल के दाम

रूस-यूक्रेन युद्ध के कारण पिछले साल सोने में तेजी आई है. मिडिल ईस्ट में संघर्ष और तनाव के कारण निवेशकों का भरोसा फिर से बढ़ा है। वर्तमान परिस्थितियों में सोना फिर से लोगों को आकर्षित कर रहा है क्योंकि सोना हमेशा सुरक्षित निवेश के तौर पर देखा जाता है।

जानें इस साल कैसा रहा है सोने का कारोबारी सफर

2023 की बात करें तो, जनवरी से ही सोने की कीमतें लगातार बढ़ी हैं। सोने का वैश्विक मूल्य जनवरी में 1823 डॉलर प्रति औंस था, लेकिन मई 2023 तक यह 2051 डॉलर प्रति औंस पर आ जाएगा। अक्टूबर में सोने की कीमतें 1820 डॉलर प्रति औंस पर फिर से गिर गईं, जो 4 अक्टूबर 2023 के मूल्य हैं। बाद में सोने में हुआ उछाल बहुत आश्चर्यजनक था. बीस दिनों के भीतर सोना एक बार फिर 2005 डॉलर प्रति औंस पर आ गया।

हमारा Whatsapp ग्रूप जॉइन करें Join Now

आज गोल्ड के ग्लोबल रेट कैसे हैं

आज सोने की कीमत में भारी वृद्धि हुई है, जो 2,016.70 डॉलर प्रति औंस तक पहुंच गई है। वर्तमान में सोना 5.65 डॉलर प्रति औंस से 200420 डॉलर पर था।

दुनिया के कई देशों में इस समय सोना ऑलटाइम हाई पर

जैसा कि आप देख सकते हैं, अक्टूबर में सोना ऑस्ट्रलिया, जापान, चीन और ताईवान सहित कुछ और देशों में जोरदार उछाल के साथ कारोबार कर रहा है, जहां सोना ऑलटाइम हाई पर है।

सोने में तेजी के कुछ और कारण

  • 7 अक्टूबर से जारी इजरायल-हमास युद्ध के कारण मिडिल ईस्ट में तनाव चरम पर है। युद्ध के नकारात्मक परिणामों में हजारों लोगों की मौत, शहर की क्षति और कारोबार की समाप्ति शामिल हैं। यही कारण है कि निवेशकों का रुख सामान्य इंवेस्टमेंट से हटकर सोने की ओर फिर से लौट रहा है, और पिछले कुछ समय से सोने की खरीदारी बढ़ी है।
  • दूसरा महत्वपूर्ण कारण है कि अमेरिकी सरकार का कर्ज 33 ट्रिलियन डॉलर से अधिक हो गया है, जो डॉलर की कीमत को प्रभावित कर रहा है। डॉलर और सोने की कीमतों के बीच को-रिलेशन का परिणाम सोने की कीमतों में वृद्धि है।
  • Gold में उच्च ट्रेडिंग वॉल्यूम देखा जा रहा है; यह सिर्फ भारत या अमेरिका में नहीं, बल्कि चारों ओर देखा जा रहा है।
  • बॉन्ड यील्ड 16 साल के उच्चतम स्तर पर है, लेकिन सोने की खरीदारी देखी जा रही है, जो गोल्ड बाइंग को लेकर फंड्स भी आश्वस्त हैं।
  • भारत और चीन में सोने की खपत काफी बढ़ी है। आंकड़े बताते हैं कि चीन में सोने की खपत 2023 में 7.2% बढ़ी है। साथ ही, भारत में चौथी तिमाही में सोने की खपत प्रति वर्ष10-15 प्रतिशत की उछाल पर रहने की उम्मीद है। 

भारत में भी सोने के दाम में जबरदस्त तेजी

भारत में भी सोने की कीमतें जबरदस्त तेजी से बढ़ रही हैं, और वायदा बाजार में सोना 62,000 रुपये के आसपास है। सोना आज भी बढ़त के साथ ट्रेड कर रहा है। देश में सोना 62500 रुपये के ऊपर रिटेल बाजार में है। जब सोने की खरीदारी के लिहाज से महीने के दो सबसे बड़े त्योहार धनतेरस और दिवाली आते हैं, तो सोने के रेट में इस महीने और उछाल आने की पूरी उम्मीद है। 10 नवंबर को धनतेरस और 12 नवंबर को दिवाली के दिन बहुत सारे सोने की खरीददारी होगी।