home page

हरियाणा सरकार की आंखो में धूल झोंककर यहां हुआ 50 एकड़ जमीन का घोटाला, सरकार ने लिया ऐक्शन तो अधिकारियों की उड़ी नींद

हरियाणा के दिल गुरुग्राम में 500 करोड़ की बेशकीमती जमीन हड़पने के लिए फर्जी पत्र का सहारा लेने वाले अब कानून की गिरफ्त में हैं। हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण (एसएसवीपी) की इस जमीन पर नज़र रखने वाले...
 | 
panchkula-haryana-land-scam
   

हरियाणा के दिल गुरुग्राम में 500 करोड़ की बेशकीमती जमीन हड़पने के लिए फर्जी पत्र का सहारा लेने वाले अब कानून की गिरफ्त में हैं। हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण (एसएसवीपी) की इस जमीन पर नज़र रखने वाले चालबाजों पर अब पुलिस की कड़ी नज़र है।

सरकार ने उठाए कड़े कदम

मुख्यमंत्री नायब सिंह सैनी और पूर्व मुख्यमंत्री मनोहर लाल की निगरानी में पुलिस ने विशेष जांच दल (एसआइटी) का गठन किया है। इस टीम में लोकल पुलिस को शामिल नहीं किया गया है, इसके बजाय पंचकूला क्राइम ब्रांच की पुलिस को इस मिशन के लिए चुना गया है।

जांच के घेरे में कई संदिग्ध

इस मामले में अब तक छह से अधिक लोगों को हिरासत में लिया गया है। जमीन को रिलीज़ कराने की प्रक्रिया में दलालों और प्रॉपर्टी डीलरों की महत्वपूर्ण भूमिका सामने आई है। मुख्य सचिव कार्यालय की कैबिनेट ब्रांच, राजस्व और आपदा प्रबंधन विभाग, साथ ही गुरुग्राम के अधिकारियों और कर्मचारियों की संलिप्तता की भी जांच की जा रही है।

फर्जी पत्र का पर्दाफाश

जमीन के इस खेल के पीछे का मास्टरमाइंड गुरुग्राम के गांव झाडसा का निवासी महेंद्र है, जो दलाली के साथ-साथ जमीन के कागजातों को अटेस्ट करने का काम भी देखता है। इसके अलावा कैथल के कलायत का एक व्यक्ति भी इस धांधली का मुख्य सूत्रधार बताया जा रहा है।

सरकारी कदम और जांच का दायरा

सरकार ने गुरुग्राम के जिला उपायुक्त के माध्यम से घासौला का पूरा रिकॉर्ड मंगवा लिया है और बाकी दो स्थानों पर मौजूद जमीन की जानकारियां जुटाने की प्रक्रिया जारी है।