home page

1971 में कितने रूपये का आता था मसाला डोसा, होटल के पुराने बिल को देखकर तो दिमाग का हो जाएगा दही

वक्त के साथ जीवन की महंगाई में आए बदलावों की एक झलक प्रस्तुत करते हुए सोशल मीडिया पर वायरल हुआ एक पुराना बिल ने लोगों की स्मृतियों को ताज़ा कर दिया है। 1971 का यह बिल जिसमें मसाला डोसा की कीमत मात्र एक रुपए थी
 | 
masala-dosa-rate-in-old-bill-of-1971
   

वक्त के साथ जीवन की महंगाई में आए बदलावों की एक झलक प्रस्तुत करते हुए सोशल मीडिया पर वायरल हुआ एक पुराना बिल ने लोगों की स्मृतियों को ताज़ा कर दिया है। 1971 का यह बिल जिसमें मसाला डोसा की कीमत मात्र एक रुपए थी आज के दौर की तुलना में एक याद की तरह है।

पुराने समय की यादें और मौजूदा महंगाई

समय के साथ चीजों की कीमतों में आया यह विशाल अंतर न सिर्फ महंगाई की ओर इशारा करता है बल्कि उस समय की सादगी को भी दर्शाता है। जब एक समय था जब लोग अपेक्षाकृत कम कमाई में भी अपने जीवन को सुखमय बना लेते थे।

मोती महल से मिला मसाला डोसा का बिल

बिल में दर्ज मोती महल नामक रेस्टोरेंट का वर्णन न सिर्फ उस दौर की खान-पान संस्कृति की ओर इशारा करता है बल्कि यह भी बताता है कि उस समय में भी मसाला डोसा जैसे व्यंजन लोगों की पसंद में शुमार थे।

एक रुपए के मसाला डोसा की चर्चा

सोशल मीडिया पर इस बिल के सामने आने के बाद लोगों ने आज के मसाला डोसा की कीमतों से इसकी तुलना की और पाया कि आज जहां मसाला डोसा की कीमतें सौ रुपए से अधिक हो सकती हैं वहीं एक समय था जब यह मात्र एक रुपए में मिलता था।

यह भी पढ़ें; ट्रेन में स्टेयरिंग तो होता नही फिर ट्रेन कैसे चलाता है पायलट, ट्रेन चलने के बाद लोको पायलट को करने पड़ते है ये काम

पुरानी यादों का खजाना

यह पर्ची न केवल मसाला डोसा की कीमतों में आए बदलाव की कहानी कहती है बल्कि यह भी दर्शाती है कि किस तरह समय के साथ हमारी आर्थिक स्थितियाँ और जीवनशैली में परिवर्तन आया है। इस पुराने बिल के माध्यम से लोग अपनी पुरानी यादों को ताजा कर पाए हैं और इसने उन्हें एक बार फिर से उस समय की यात्रा पर ले जाने का अवसर दिया है जब जीवन अधिक सरल और सस्ता था।