home page

महिलाएं ये काम करती दिखी तो पुरुष को तुरंत फेर लेनी चाहिए अपनी नजर, वरना बाद में होगा पछतावा

आचार्य चाणक्य जिन्हें कौटिल्य, विष्णु गुप्त और वात्सायन के नामों से भी जाना जाता है भारतीय इतिहास में उनका स्थान अत्यंत महत्वपूर्ण है। उनकी नीतियां न केवल भारत में बल्कि विदेशों में भी सराही गई हैं। उन्होंने मानव जीवन, राजनीति, समाज और वैवाहिक संबंधों पर गहरी दृष्टि डाली है।

 | 
Loco Pilot,GK,Loco pilot, train, indian railway, railway, railway knowledge, facts about train, loco pilot work, who is loco pilot, train driver, train driver loco pilot,लोको पायलट, ट्रेन, भारतीय रेलवे, रेलवे, रेलवे ज्ञान,
   

आचार्य चाणक्य जिन्हें कौटिल्य, विष्णु गुप्त और वात्सायन के नामों से भी जाना जाता है भारतीय इतिहास में उनका स्थान अत्यंत महत्वपूर्ण है। उनकी नीतियां न केवल भारत में बल्कि विदेशों में भी सराही गई हैं। उन्होंने मानव जीवन, राजनीति, समाज और वैवाहिक संबंधों पर गहरी दृष्टि डाली है।

नीति शास्त्र और जीवन

चाणक्य नीति शास्त्र में उन्होंने मानव जीवन के विभिन्न पहलुओं पर प्रकाश डाला है। उनका मानना था कि सुखी और खुशहाल जीवन जीने के लिए उनकी नीतियों का अनुसरण करना चाहिए। उनकी नीतियां न केवल पुरुषों बल्कि महिलाओं के जीवन को भी सुखमय बना सकती हैं।

पुरुषों के लिए खास निर्देश

आचार्य चाणक्य ने पुरुषों के लिए कुछ खास निर्देश दिए हैं जिनका पालन करके वे अपने जीवन में उत्थान और प्रगति कर सकते हैं। उन्होंने कहा है कि कुछ काम ऐसे हैं जो पुरुषों को कभी नहीं करने चाहिए अन्यथा उनके जीवन में पतन की शुरुआत हो सकती है।

यह भी पढ़ें; इस नस्ल की गाय अपने पशुपालक को बना देती है मालामाल, रोजाना देती है 70 से लीटर से ज्यादा दूध

न किए जाने वाले कार्य 

भोजन करती महिलाओं को न देखें: चाणक्य कहते हैं कि पुरुषों को भोजन करती महिलाओं की ओर नहीं देखना चाहिए। यह न केवल शिष्टाचार के खिलाफ है बल्कि महिलाओं को असहज भी करता है।

कपड़े संभालती महिलाएं: पुरुषों को अपने कपड़े ठीक करती महिलाओं की ओर नहीं देखना चाहिए। यह पुरुषों की मर्यादा के विपरीत है।

श्रृंगार करती महिलाओं को न देखें: श्रृंगार करती महिलाओं को देखने से पुरुषों को बचना चाहिए। खासतौर पर काजल लगाती महिलाओं को देखना उचित नहीं माना गया है।

समाज में मान-सम्मान का आधार

आचार्य चाणक्य की नीतियों का पालन करके पुरुष समाज में अपना मान-सम्मान बढ़ा सकते हैं। ये नीतियां न केवल उन्हें सही मार्ग पर चलने का निर्देश देती हैं बल्कि उनके चरित्र को भी निखारती हैं।