home page

नया स्मार्टफोन लेने का सोच रहे है तो आपके लिए आई बड़ी खुशखबरी, बजट से पहले इतने रुपए सस्ते हो सकते है स्मार्टफोन

सरकार ने बजट से एक दिन पहले बड़ा निर्णय लेते हुए स्मार्टफोन पर इंपोर्ट ड्यूटी को कम कर दिया है। इस निर्णय के बाद स्मार्ट फोन की कीमत कम हो सकती है। केंद्र ने मोबाइल फोन बनाने वाले कंपोनेंट्स पर इंपोर्ट ड्यूटी...
 | 
mobile phone components

सरकार ने बजट से एक दिन पहले बड़ा निर्णय लेते हुए स्मार्टफोन पर इंपोर्ट ड्यूटी को कम कर दिया है। इस निर्णय के बाद स्मार्ट फोन की कीमत कम हो सकती है। केंद्र ने मोबाइल फोन बनाने वाले कंपोनेंट्स पर इंपोर्ट ड्यूटी को 15 प्रतिशत से घटाकर 10 प्रतिशत कर दिया है, वित्त मंत्रालय की एक सूचना के अनुसार।

इंपोर्ट ड्यूटी में कमी के बाद देश में विदेशी स्मार्टफोन सस्ते हो सकते हैं, जानकारों का अनुमान है। नोटिफिकेशन में कहा गया है कि मोबाइल फोन के मैकेनिकल भागों (जैसे जीएसएम एंटीना, मेन कैमरा लेंस, बैट्री कवर, बैक कवर और प्लास्टिक और मेटल के अन्य भागों) पर आयात खर्च को 5 से 10 प्रतिशत तक कम किया गया है।

इनमें भी कटौती की गई

इसके अलावा, नोटिफिकेशन में बताया गया है कि इन कंपोनेंट्स के उत्पादन में उपयोग किए जाने वाले इनपुट पर इंपोर्ट ड्यूटी जीरो कर दी गई है। रॉयटर्स को बताते हुए, टैक्स कंसल्टेंसी फर्म मूर सिंघी के डायरेक्टर निदेशक रजत मोहन ने कहा कि मोबाइल फोन के कुछ हिस्सों के आयात पर कर में कटौती से बड़े वैश्विक उत्पादकों को भारत में मोबाइल असेंबली लाइंस बनाने में मदद मिलेगी और मोबाइल फोन के निर्यात में काफी इजाफा होगा। इस महीने की शुरुआत में, रॉयटर्स ने बताया था कि भारत हाई-एंड मोबाइल फोन बनाने वाले प्रमुख कंपोनेंट्स पर आयात करों में कटौती पर विचार कर रहा है।

आईसीईए ने अनुमान लगाया

आईसीईए (इंडिया सेल्युलर एंड इलेक्ट्रॉनिक्स एसोसिएशन) ने कहा कि यह कदम भारत की मोबाइल फोन मैन्युफैक्चरिंग को और अधिक कंप्टीटिव बना देगा। इस क्षेत्र में काम करने वाली कंपनियां भारत में स्मार्टफोन बनाने की लागत को कम करने और चीन और वियतनाम जैसे देशों के साथ सहयोग करने पर जोर दे रही हैं।

आईसीईए ने पहले कहा था कि भारत से मोबाइल फोन एक्सपोर्ट अगले दो वर्षों में तीन गुना बढ़कर 39 अरब डॉलर हो सकता है (वित्त वर्ष 2023 में 11 अरब डॉलर था) अगर सरकार कंपोनेंट्स पर इंपोर्ट ड्यूटी कम करती है और कुछ क्षेत्रों में पूरी तरह से खत्म करती है।

कितनी बड़ी होगी इंडस्ट्री

भारत की मोबाइल इंडस्ट्री को वित्त वर्ष 2024 में लगभग 50 बिलियन डॉलर के मोबाइल फोन बनाने की उम्मीद है, जो अगले वित्त वर्ष में 55-60 बिलियन डॉलर होने की संभावना है। 2024 में निर्यात लगभग 15 अरब डॉलर तक बढ़ने और 2025 में 27 अरब डॉलर तक बढ़ने का अनुमान है।

विशेषज्ञों का कहना है कि देश की मोबाइल फोन इंडस्ट्री आने वाले समय में बहुत आगे की ओर बढ़ने वाली है। एपल का कारोबार निरंतर बढ़ता जा रहा है। फॉक्सकॉन लगातार अपने उत्पादन क्षेत्र में निवेश कर रहा है।