home page

IMD Weather Alert: Delhi NCR में मौसम के बदले मिजाज ने बढ़ाई लोगों की परेशानी, इन जगहों पर बारिश का अलर्ट जारी

भारतीय उपमहाद्वीप में मौसम हमेशा से विविधता और अनिश्चितता का परिचायक रहा है। जहाँ एक ओर भारतीय संस्कृति में ऋतुओं का अपना महत्व है, वहीं हाल के वर्षों में मौसम में आए अजब-गजब परिवर्तनों ने सभी को चकित...
 | 
Weather Forecast 04 April
   

भारतीय उपमहाद्वीप में मौसम हमेशा से विविधता और अनिश्चितता का परिचायक रहा है। जहाँ एक ओर भारतीय संस्कृति में ऋतुओं का अपना महत्व है, वहीं हाल के वर्षों में मौसम में आए अजब-गजब परिवर्तनों ने सभी को चकित किया है। 2024 में भी यह ट्रेंड जारी है जिसमें गर्मी, सर्दी और बसंत के मौसम में अप्रत्याशित बदलाव देखने को मिल रहे हैं।

गर्मी के बढ़ते पारे की कहानी

दिल्ली सहित देश के विभिन्न हिस्सों में गर्मी का प्रकोप बढ़ रहा है। हालांकि अभी तक लोगों को कुछ राहत मिली हुई है। मौसम विभाग के अनुसार आने वाले 48 घंटों में हीटवेव की स्थिति के बने रहने की संभावना है, जिससे झारखंड और आंध्र प्रदेश के कुछ हिस्सों में तापमान में उल्लेखनीय वृद्धि हो सकती है।

मौसम विभाग का पूर्वानुमान

दक्षिणी तमिलनाडु से लेकर पूर्वी विदर्भ तक के क्षेत्र में वायु का विच्छेदन बना हुआ है, जिससे अगले कुछ दिनों में मौसम में परिवर्तन होने की संभावना है। विशेष रूप से दिल्ली में 5 अप्रैल को मामूली बूंदाबांदी होने की उम्मीद है, जो तापमान में थोड़ी राहत प्रदान कर सकती है।

बढ़ती गर्मी के बीच राहत के पल

दिल्ली-एनसीआर में जहां पारा लगातार चढ़ रहा है, वहाँ बीते दो दिनों से गर्मी में कुछ राहत देखने को मिली है। इस बीच 10 अप्रैल तक राहत बने रहने की संभावना है, हालांकि तापमान में एक से दो डिग्री का इजाफा संभव है।

वर्षा की चेतावनी और उम्मीद

'स्काईमेट वेदर' के अनुसार अगले तीन दिनों तक पश्चिमी हिमालय क्षेत्र में हल्की से मध्यम बारिश और बर्फबारी की संभावना है। इसके अलावा नॉर्थ-ईस्ट भारत में भी अगले 4 से 5 दिनों तक हल्की बारिश की उम्मीद है।

आगामी मौसम की चुनौतियाँ

मौसम विभाग के डायरेक्टर मृत्युंजय महापात्र के अनुसार अप्रैल के महीने में देश भर में सामान्य बारिश होने की उम्मीद है, जो बढ़ती गर्मी से कुछ राहत प्रदान कर सकती है। इस साल भारत के अधिकांश हिस्सों में अधिकतम तापमान सामान्य से अधिक रहने की संभावना है, जिससे गर्मी से जुड़ी चुनौतियाँ बढ़ सकती हैं।