home page

हरम में रानियों को सुविधाओं के लिए रखे जाते थे किन्नर, रानियों को खुश रखने के लिए दिनरात करते थे ये काम

मुगल साम्राज्य के इतिहास में रंगीनी और रहस्यों की कोई कमी नहीं है। इस साम्राज्य के शासकों की जिंदगी उनके रीति-रिवाज और परंपराएं हमेशा चर्चा का विषय रही हैं। विशेष रूप से हरम की दुनिया जिसमें अनेक महिलाओं के...
 | 
Mughal Dark Secrets
   

मुगल साम्राज्य के इतिहास में रंगीनी और रहस्यों की कोई कमी नहीं है। इस साम्राज्य के शासकों की जिंदगी उनके रीति-रिवाज और परंपराएं हमेशा चर्चा का विषय रही हैं। विशेष रूप से हरम की दुनिया जिसमें अनेक महिलाओं के साथ-साथ किन्नरों का भी विशेष स्थान था, लोगों के लिए उत्सुकता का विषय है।

मुगल साम्राज्य के इतिहास में किन्नरों की भूमिका और उनके योगदान को देखते हुए। यह स्पष्ट होता है कि वे केवल सामाजिक या राजनीतिक जीवन में ही नहीं बल्कि मुगल साम्राज्य के निजी जीवन में भी एक अहम रोल निभाते थे। इस तरह के इतिहास के पन्नों को पलटना हमें न केवल अतीत की गहराईयों में ले जाता है बल्कि सामाजिक ढांचे में विविधता और समावेशिता के महत्व को भी दर्शाता है।

हरम में किन्नरों की भूमिका

हरम जो मुगल शासकों का निजी जीवन स्थल होता था, में कई महिलाएं रहा करती थीं। इस निजी जगह में किन्नरों को भी एक महत्वपूर्ण स्थान दिया गया था। किन्नरों को हरम में इसलिए रखा जाता था क्योंकि उन्हें विश्वासपात्र माना जाता था और वे कई जिम्मेदारियों को संभाल सकते थे, जिसे सामान्यतः अन्य कोई संभाल नहीं पाता था।

किन्नरों की जिम्मेदारियां और विश्वास

अकबर के हरम में पांच हजार महिलाएं होने का उल्लेख मिलता है। लेकिन उनके हरम में रहने वाले किन्नर खासतौर पर उनकी सुनते थे। यह भी माना जाता है कि मुगल शासक अपने हरम में किन्नरों पर अधिक भरोसा करते थे और उन्हें खुफिया जानकारी इकट्ठा करने जैसी विशेष जिम्मेदारियां सौंपते थे।

हरम की सुरक्षा और किन्नरों का महत्व

हरम में रहने वाले किन्नर न केवल ताकतवर होते थे बल्कि वे बेगमों की हिफाजत भी करते थे। इसके पीछे यह मान्यता थी कि हरम में महिलाओं की इज्जत और सुरक्षा सुनिश्चित की जा सके। मुगल शासकों का यह भी मानना था कि यदि हरम में पुरुष सैनिक रखे जाएंगे तो यह महिलाओं के लिए एक आकर्षण का कारण बन सकता है। इसीलिए किन्नरों को हरम में रखने की परंपरा थी।

सामाजिक धारणाएं और इतिहास के पन्ने

मुगल साम्राज्य के दौरान किन्नरों की इस भूमिका ने समाज में उनके स्थान को एक विशेष पहचान दी थी। यह न केवल उस समय के सामाजिक ढांचे को दर्शाता है बल्कि यह भी बताता है कि किस प्रकार इतिहास में किन्नरों का एक महत्वपूर्ण और सम्मानजनक स्थान था।