home page

Indian Currency Update: 500 रुपए के नोट से लाल किले की हटने वाली है फोटो? आरबीआई ने कर दिया क्लीयर

Indian Currency Update: सोशल मीडिया (Social Media) पर हाल ही में एक दावा बहुत तेजी से वायरल (Viral) हो रहा था। यह दावा था कि 22 जनवरी को भारतीय मुद्रा (Indian Currency) में 500 रुपये के नए नोट जारी किए जाएंगे।
 | 
500-rupee-note-ram-mandir-note-fact-check

Indian Currency Update: सोशल मीडिया (Social Media) पर हाल ही में एक दावा बहुत तेजी से वायरल (Viral) हो रहा था। यह दावा था कि 22 जनवरी को भारतीय मुद्रा (Indian Currency) में 500 रुपये के नए नोट जारी किए जाएंगे।

जिनमें महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) की जगह भगवान राम (Lord Rama), लाल किले (Red Fort) की जगह अयोध्या के राम मंदिर (Ram Temple) और चश्मे की जगह तीर-धनुष (Bow and Arrow) की तस्वीर होगी।

इसे जब अयोध्या में राम मंदिर का भव्य प्रतिष्ठा समारोह (Grand Inauguration Ceremony) होगा तब जारी करने की बात कही गई थी।

सोशल मीडिया पर फोटो का सच

जिस फोटो को लेकर यह दावा किया गया था, वह मूलतः एक्स हैंडल (Twitter) पर @raghunmurthy07 हैंडल द्वारा साझा किया गया था। इस फोटो ने जल्द ही ऑनलाइन लोकप्रियता (Online Popularity) हासिल कर ली और लोगों ने इसे वायरल दावे के साथ साझा करना शुरू कर दिया।

लेकिन जब यह फोटो लोकप्रिय हो गई, तब @raghunmurthy07 हैंडल का उपयोग करने वाले व्यक्ति ने स्पष्ट किया कि उनके रचनात्मक कार्य (Creative Work) का गलत सूचना फैलाने के लिए दुरुपयोग (Misuse) किया गया है।

भारतीय रिजर्व बैंक का खंडन

इस वायरल दावे की सत्यता जांचने के लिए जब भारतीय रिजर्व बैंक (Reserve Bank of India) की वेबसाइट पर ‘नो योर नोट्स’ (Know Your Notes) सेक्शन में जाकर जांच की गई, तो पता चला कि 500 रुपये के नोट के डिजाइन (Design) में कोई बदलाव नहीं किया गया है।

नोट में अभी भी सामने की तरफ महात्मा गांधी की तस्वीर, लाल किले की तस्वीरें और पीछे की तरफ चश्मे की एक जोड़ी प्रदर्शित (Displayed) है।

सोशल मीडिया की भ्रामक जानकारी

यह घटना एक बार फिर से इस बात को उजागर करती है कि सोशल मीडिया पर फैलने वाली जानकारियों (Information) की सत्यता की जांच किए बिना उन पर विश्वास करना खतरनाक हो सकता है।

इस तरह के वायरल दावे सिर्फ भ्रम (Confusion) और गलत सूचना (Misinformation) का कारण बनते हैं। इसलिए सोशल मीडिया पर आने वाली किसी भी सूचना की पुष्टि (Verification) करना बेहद आवश्यक है।