home page

Indian Railway: ट्रेन में बिना टिकट यात्रा करने वालों की बढ़ने वाली है मुश्किलें, अब चलती ट्रेन में ही बगैर टिकट यात्रियों के खिलाफ होगा ऐक्शन

यदि आप बिना टिकट (Ticketless Travel) यात्रा करने की सोच रहे हैं, तो सावधान हो जाइए। आगरा रेल मंडल (Agra Rail Division) ने बिना टिकट यात्रा करने वालों से चलती ट्रेन में ही जुर्माना (Fine) वसूलने की डिजिटल प्रणाली अपनाई है।
 | 
without ticket train journey

यदि आप बिना टिकट (Ticketless Travel) यात्रा करने की सोच रहे हैं, तो सावधान हो जाइए। आगरा रेल मंडल (Agra Rail Division) ने बिना टिकट यात्रा करने वालों से चलती ट्रेन में ही जुर्माना (Fine) वसूलने की डिजिटल प्रणाली अपनाई है।

अब यात्रियों को क्यूआर कोड (QR Code) स्कैन करके जुर्माने की राशि भरनी होगी। आगरा रेल मंडल द्वारा अपनाई गई यह नई व्यवस्था न केवल रेल कर्मचारियों और यात्रियों के लिए सुविधाजनक है बल्कि यह रेलवे में डिजिटल भुगतान के बढ़ते रुझान (Trend) को भी दर्शाती है।

इससे जहां एक ओर लेनदेन में पारदर्शिता आई है, वहीं दूसरी ओर यह बिना टिकट यात्रा करने वालों के लिए एक सबक भी है। इस प्रणाली से रेलवे में अवैध उगाही पर भी रोक लगेगी और यात्रियों को जुर्माना भरने की प्रक्रिया में आसानी होगी।

डिजिटल भुगतान की ओर एक कदम

देशभर में डिजिटल पेमेंट (Digital Payment) का चलन बढ़ने के साथ, रेलवे (Railways) ने भी जुर्माना वसूली को डिजिटल बना दिया है। इसके लिए रेलवे स्क्वाड और टिकट चेकिंग स्टाफ को 350 HHM मशीनें (Handheld Machines) उपलब्ध कराई गई हैं। यह प्रणाली न केवल समय बचाएगी बल्कि कागज (Paper) की बचत भी करेगी।

क्यूआर कोड से जुर्माना भरने की प्रक्रिया

चेकिंग स्टाफ अब मशीन में यात्री की यात्रा की जानकारी भरकर क्यूआर कोड जेनरेट करेगा, जिसे यात्री अपने मोबाइल फोन से स्कैन कर जुर्माने का भुगतान कर सकेगा। इससे लेनदेन में पारदर्शिता (Transparency) आएगी और अवैध उगाही के आरोपों से भी बचा जा सकेगा।

डिजिटल भुगतान के लाभ

इस नई व्यवस्था से जेब में नकदी (Cash) न होने की समस्या का भी समाधान होगा। चोरी या गुम होने के डर से लोग कम कैश रखने लगे हैं, और ऐसे में डिजिटल भुगतान एक सुरक्षित और सुविधाजनक विकल्प साबित हो रहा है।

आगरा रेल मंडल की पहल

आगरा रेल मंडल के पीआरओ प्रशस्ति श्रीवास्तव (PRO Prashasti Srivastava) ने बताया कि एचएचटी मशीनों को स्टाफ में वितरित किया गया है। इस पहल से बिना टिकट यात्रा करने वाले यात्री जेल जाने से बच सकेंगे और रेलवे को भी अपने खाते में सीधे जुर्माना प्राप्त होगा।