home page

8 July Holidays: इस राज्य में 7 और 8 जुलाई को बंद रहेंगे सभी स्कूल, ऑफिस और बैंक, दो दिनों का सार्वजनिक अवकाश हुआ घोषित

ओडिशा के मुख्यमंत्री मोहन चरण माझी ने इस वर्ष रथ यात्रा के अवसर पर 7 और 8 जुलाई को दो दिवसीय अवकाश की घोषणा की है।
 | 
public-holidays-all-schools
   

ओडिशा के मुख्यमंत्री मोहन चरण माझी ने इस वर्ष रथ यात्रा के अवसर पर 7 और 8 जुलाई को दो दिवसीय अवकाश की घोषणा की है। यह उत्सव अपने आप में अनूठा है क्योंकि पिछली बार ऐसा संयोग 1971 में बना था। पुरी में आयोजित होने वाली इस यात्रा में भगवान जगन्नाथ उनके भाई बलराम और बहन सुभद्रा की प्रतिमाएं भव्य रथों पर सवार होकर निकलती हैं। मुख्यमंत्री ने इस दो दिनी उत्सव के सफल आयोजन के लिए उच्च स्तरीय बैठक की अध्यक्षता की और सभी आवश्यक तैयारियों को पूरा करने के निर्देश दिए।

उत्सव की तैयारियां और विशेष व्यवस्थाएं

रथ यात्रा के लिए इंडियन रेलवे ने भी खास इंतजाम किए हैं। रेल मंत्री अश्वनी वैष्णव के अनुसार, रथ यात्रा के दौरान 315 स्पेशल ट्रेनें चलाई जाएंगी जो देशभर से श्रद्धालुओं को पुरी तक पहुँचाएंगी। इस बार की व्यवस्था में 15 हजार श्रद्धालुओं के लिए विशेष प्रबंध किए गए हैं ताकि उन्हें कोई असुविधा न हो। इस आयोजन का मुख्य आकर्षण भगवान जगन्नाथ का रथ होता है, जिसे हजारों भक्त खींचते हैं, और यह दृश्य बेहद भव्य और आध्यात्मिक होता है।

राष्ट्रपति की संभावित उपस्थिति और सांस्कृतिक महत्व

मुख्यमंत्री मोहन चरण माझी ने यह भी सूचना दी है कि राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू इस वर्ष रथ यात्रा उत्सव में भाग ले सकती हैं। उनकी यह यात्रा ओडिशा और विशेषकर पुरी के लिए गौरव की बात होगी। रथ यात्रा का आयोजन न केवल एक धार्मिक उत्सव है बल्कि यह ओडिशा की सांस्कृतिक धरोहर को भी दर्शाता है। इस उत्सव में देश-विदेश से आए लोगों को ओडिशा की संस्कृति और अतिथि देवो भवः की परंपरा का अनुभव होता है।

हमारा Whatsapp ग्रूप जॉइन करें Join Now

उत्सव के लिए सुरक्षा इंतजाम

इस विशाल आयोजन के लिए सुरक्षा और संगठनात्मक उपायों को कड़ाई से लागू किया गया है। मुख्यमंत्री ने सभी संबंधित विभागों से यह सुनिश्चित करने का आग्रह किया है कि त्योहार सुचारू रूप से चले और इस दौरान किसी भी प्रकार की अव्यवस्था न हो। यह आयोजन ओडिशा के गौरव को बढ़ाने और इसे एक यादगार उत्सव बनाने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है।