home page

दिल्ली की तरफ कूच करने से पहले किसानों को मनाने की आखिरी कोशिश, इस तारीख को होगी किसानों से बातचीत

केंद्र सरकार ने नाराज किसानों को मनाने की एक और कोशिश की है. 13 फरवरी को पंजाब और हरियाणा के किसानों ने दिल्ली कूच का ऐलान किया था। 12 फरवरी को केंद्रीय कोऑर्डिनेशन ने संयुक्त किसान मोर्चा....
 | 
convince-the-farmers-before-the-delhi-march

केंद्र सरकार ने नाराज किसानों को मनाने की एक और कोशिश की है. 13 फरवरी को पंजाब और हरियाणा के किसानों ने दिल्ली कूच का ऐलान किया था। 12 फरवरी को केंद्रीय कोऑर्डिनेशन ने संयुक्त किसान मोर्चा (गैर-राजनीतिक) और किसान मजदूर संघर्ष कमेटी को बैठक के लिए न्योता भेजा है। केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल, अर्जुन मुंडा और केंद्रीय राज्यमंत्री नित्यानंद राय इस बातचीत में भाग लेंगे।

सरकार से नाराज किसान

दूसरी ओर, हरियाणा की मनोहर सरकार ने किसानों को दिल्ली कूच से रोकने के लिए प्रयोग किए गए हथकंडों से किसानों को बहुत गुस्सा आया है। किसानों ने बातचीत का न्योता मिलने के बाद देर रात पंजाब सरकार के अधिकारियों से बातचीत की है और बैठक में शामिल होने पर सहमति दी है।

12 फरवरी की शाम 5 बजे महात्मा गांधी स्टेट इंस्टीट्यूट ऑफ पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन, सेक्टर-26 में इस बैठक का आयोजन किया जाएगा। सीएम भगवंत मान भी इस बैठक में शामिल हो सकते हैं।

हरियाणा में चल रही घटनाओं से प्रभावित किसान

किसान नेता श्रवण सिंह पंधेर ने बताया कि पंजाब सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों से बातचीत के दौरान किसानों ने हरियाणा सरकार द्वारा किए जा रहे कार्यों पर अपना असंतोष व्यक्त किया है। उनका कहना था कि पंजाब सरकार ने हरियाणा सरकार से ऐसे कार्यों से बचने को कहा है।

Internet सेवाओं पर प्रतिबंध लगाना लोकतंत्र का उल्लंघन है। केंद्र सरकार बातचीत करने के इरादे से है, लेकिन हरियाणा सरकार किसानों को इस तरह उकसाने की कोशिश कर रही है।

दिल्ली आने का आग्रह

श्रवण सिंह ने कहा कि सारे देश से किसानों को 13 फरवरी को दिल्ली आने का आह्वान किया गया है और ये ट्रैक्टर मार्च पूरी तरह से शांतिपूर्ण रहेगा। हम दिल्ली में रहेंगे जब तक केंद्रीय सरकार हमारे विचारों को नहीं मान लेती।