home page

शादीशुदा महिलाएं इन आदतों वाले मर्दों को मानती है बड़ा बेवकूफ, जमकर करती है इस्तेमाल

भारतीय इतिहास में आचार्य चाणक्य का नाम एक महान विद्वान, कूटनीतिज्ञ और अर्थशास्त्री के रूप के रूप में माना जाता है। उनके द्वारा लिखी गई नीतियां आज भी जीवन के कई पहलुओं में मार्गदर्शक का कार्य करती हैं। उन्होंने स्त्री-पुरुष के रिश्ते और चरित्र पर भी कई महत्वपूर्ण बातें कही हैं।
 | 
hanakya-niti-women-consider-these-men
   

भारतीय इतिहास में आचार्य चाणक्य का नाम एक महान विद्वान, कूटनीतिज्ञ और अर्थशास्त्री के रूप के रूप में माना जाता है। उनके द्वारा लिखी गई नीतियां आज भी जीवन के कई पहलुओं में मार्गदर्शक का कार्य करती हैं। उन्होंने स्त्री-पुरुष के रिश्ते और चरित्र पर भी कई महत्वपूर्ण बातें कही हैं।

मोहनी स्त्री की प्रवृत्ति

आचार्य चाणक्य के अनुसार कुछ स्त्रियां ऐसी होती हैं जो दुष्टता और छल-कपट में विश्वास रखती हैं। ऐसी स्त्रियां सच्चे प्रेम और सद्गुणी पुरुषों की कद्र नहीं करतीं। उनका मानना है कि जो पुरुष उनके अनुसार नहीं चलता वह मूर्ख है और उसे सम्मान के योग्य नहीं समझतीं।

आचार्य चाणक्य की चेतावनी

चाणक्य नीति में आचार्य चाणक्य ने इस प्रकार की स्त्री से दूर रहने की सलाह दी है। वे कहते हैं कि जैसे सांप को दूध पिलाने से उसका विष और बढ़ता है उसी प्रकार दुष्ट स्वभाव वाली स्त्री सद्गुणी पुरुषों के संपर्क में आकर भी अपने स्वभाव में सुधार नहीं करती बल्कि उन्हें और अधिक कष्ट पहुँचाती है।

यह भी पढ़ें; यूपी के रेल्वे स्टेशन और एयरपोर्ट पर टेन्शन फ्री होकर छलका सकेंगे जाम, बार में शराब पिलाने के नियमों में हुआ बड़ा बदलाव

सद्गुणी पुरुषों की अनदेखी

आचार्य चाणक्य ने यह भी कहा है कि ऐसी स्त्रियां सद्गुणी पुरुषों को महत्व नहीं देतीं। वे झूठ बोलने वाले धूर्त और दगाबाज पुरुषों की ओर अधिक आकर्षित होती हैं। उनकी यह मानसिकता उन्हें और उनके संबंधों को लंबे समय तक हानि पहुँचाती है।

सच्चाई और सद्गुण की ओर

चाणक्य नीति हमें सिखाती है कि चरित्र की दृढ़ता सच्चाई और सद्गुण ही व्यक्ति के जीवन को सार्थक बनाते हैं। आचार्य चाणक्य की ये नीतियां न सिर्फ पुरुषों बल्कि स्त्रियों के लिए भी मार्गदर्शक सिद्ध होती हैं। यह हमें सिखाती हैं कि सच्चे और सद्गुणी संबंध ही वास्तविक सुख और संतोष प्रदान करते हैं।