home page

Mughal Haram: जिस हरम में पुरुषों को जाने की थी पाबंदी वहां ट्रांसजेंडर रखते थे बादशाह, खूबसूरत रानियों के लिए 24 घंटे करना पड़ता था ये काम

मुगल सल्तनत या मुगल हरम का हर बार जिक्र होता है। मुगल हरम ट्रांसजेंडर थे।
 | 
Mughal Harem Stories: बादशाहों के अजीज थे मुगल हरम के ट्रांसजेंडर, दिलचस्प है इसकी वजह

मुगल सल्तनत या मुगल हरम का हर बार जिक्र होता है। मुगल हरम ट्रांसजेंडर थे। मुगल हरम की सुरक्षा की जिम्मेदारी इन्हीं ट्रांसजेंडर के कंधों पर थी. मुगल हरम में ट्रांसजेंडर्स को बादशाहों और बेगमों के लिए बहुत विशिष्ट माना जाता है।

इसकी कई वजह हैं। यह भी जान लीजिए कि मुगल हरम की सुरक्षा में जो भी ट्रांसजेंडर थे, वे युद्ध कला में अच्छी तरह से प्रशिक्षित थे। इसके अलावा कुछ को तो मार्शल आर्ट में भी कुशल बताया जाता है. कई ट्रांसजेंडर्स को भी घोड़े मिल गए। उनकी जगह ऊंची थी। मुगल काल में ट्रांसजेंडर्स को इतना महत्व क्यों दिया गया?

ट्रांसजेंडर क्यों थे बादशाह के अजीज?

मुगल हरम में ट्रांसजेंडर्स का महत्वपूर्ण योगदान था। बादशाह ने ट्रांसजेंडर्स को मुगल हरम की कई महत्वपूर्ण नौकरियां दीं। इसके अलावा ट्रांसजेंडर्स के 4 मुख्य काम थे. ट्रांसजेंडर मनोरंजन, सुरक्षा, संदेश देने और सेवा करते थे। ट्रांसजेंडर्स को स्वामी भक्त माना जाता है.

दी गई थी सुरक्षा की अहम जिम्मेदारी

गौरतलब है कि मुगल हरम को कई लेयर्स ने बचाया था। सिर्फ ट्रांसजेंडर्स ही सबसे अंदर के सुरक्षा घेरे में तैनात थे। उनमें कोई आदमी नहीं है। मुगल हरम की सुरक्षा में तैनात ट्रांसजेंडर बादशाह की अनुमति के बिना किसी को प्रवेश नहीं देते थे।

अकबर के काल में बनाई अहम जगह

याद रखें कि अकबर के दौरान ट्रांसजेंडर्स ने अपना अलग स्थान बनाया था। मुगल बादशाह अकबर ने हरम को कई भागों में विभाजित कर दिया था। इनकी सुरक्षा की जिम्मेदारी ट्रांसजेंडर्स के कंधों पर ही थी. अकबरनामा में कहा गया है कि ट्रांसजेंडर्स ने अकबर के सौतेले भाई अधम खान को हरम में घुसने से रोका था।