home page

सातवें आसमान से औंधे मुंह धड़ाम से गिरी आलू की कीमतें, लोग बोरी भर भरके कर रहे है खरीदारी

आलू जो कि हर भारतीय रसोई का एक अनिवार्य हिस्सा है की कीमतों में पिछले कुछ समय से आसमान छू रही थी। लेकिन हालिया रिपोर्ट्स के मुताबिक आलू की कीमतों में जल्द ही गिरावट आने की संभावना है जो आम आदमी के लिए एक खुशी की खबर है।
 | 
good-news-potato-prices-in-west-bengal
   

आलू जो कि हर भारतीय रसोई का एक अनिवार्य हिस्सा है की कीमतों में पिछले कुछ समय से आसमान छू रही थी। लेकिन हालिया रिपोर्ट्स के मुताबिक आलू की कीमतों में जल्द ही गिरावट आने की संभावना है जो आम आदमी के लिए एक खुशी की खबर है।

कीमतों में उछाल के पीछे के कारण

हाल की उच्च कीमतों के पीछे मुख्य कारण फसल की कम पैदावार और होली की छुट्टियों के दौरान मजदूरों की कमी रही है। 'ज्योति' और 'चंद्रमुखी' जैसी प्रमुख किस्मों की कीमतें इस दौरान 30-40% तक बढ़ गई थीं। लेकिन अब आगामी सप्ताह में कीमतों में गिरावट आने की उम्मीद जताई जा रही है।

आने वाले समय में कीमतों का अनुमान

पश्चिम बंगाल वेंडर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष कमल डे के अनुसार आलू की कीमतें जल्द ही 20-21 रुपये प्रति किलोग्राम पर आ जाएंगी। यह गिरावट होली की छुट्टियों के बाद मजदूरों के काम पर वापस लौटने और मौसम में सुधार के कारण संभव हो पाएगी।

उत्पादन में गिरावट के आंकड़े

पश्चिम बंगाल कोल्ड स्टोरेज एसोसिएशन के वरिष्ठ सदस्य पतित पबन डे का कहना है कि इस वर्ष आलू का उत्पादन पिछले वर्षों की तुलना में 10% कम रहने की संभावना है। हालांकि, बाजार में 'ज्योति' नाम से बिकने वाले आलू वास्तव में संकर और विभिन्न किस्मों के मिश्रण होते हैं जिनकी कीमतें अलग-अलग रहती हैं।

यह भी पढ़ें; ट्रैफिक जाम के बीच एक बंदे ने किया जबरदस्त डांस, जिसे देख लोगों की छूट गई हंसी

प्याज और आलू के उत्पादन पर असर 

कृषि विभाग के अनुसार इस वर्ष प्याज और आलू दोनों का उत्पादन कम होने की आशंका है वर्ष 2023-24 के लिए राष्ट्रीय स्तर पर आलू का उत्पादन पिछले वर्ष की तुलना में कम होने की उम्मीद है।