home page

इन मुगल बादशाहों को अपने इशारों पर नचाती थी रानियां, खूबसूरती और प्यार में लट्टू थे बादशाह

मुगल साम्राज्य ने भारतीय उपमहाद्वीप पर लगभग तीन शताब्दियों तक शासन किया। इस लंबे समय के दौरान मुगल शासकों ने विभिन्न युद्धों, नीतियों और राजनीतिक संघर्षों के जरिए अपनी सत्ता को मजबूत किया।
 | 
humayun-to-shahjahan-these-mughal
   

मुगल साम्राज्य ने भारतीय उपमहाद्वीप पर लगभग तीन शताब्दियों तक शासन किया। इस लंबे समय के दौरान मुगल शासकों ने विभिन्न युद्धों, नीतियों और राजनीतिक संघर्षों के जरिए अपनी सत्ता को मजबूत किया। हालांकि इसके पीछे केवल शासकों की राजनीतिक समझ ही नहीं थी बल्कि उनकी पत्नियों की सलाह और रणनीतियां भी इसमें शामिल थीं।

हुमायूं और हमीदा बानो की साझेदारी

हुमायूं का शासनकाल उतार-चढ़ाव से भरा था लेकिन इस दौरान उनकी पत्नी हमीदा बानो की भूमिका काफी महत्वपूर्ण रही। हमीदा ने न केवल हुमायूं को राजनीतिक सलाह दी बल्कि कई महत्वपूर्ण फैसलों में उनका साथ दिया। उनकी बुद्धिमत्ता और साहस ने हुमायूं को कई कठिनाइयों से उबारा।

अकबर और जोधाबाई की विचारशील चर्चाएँ

अकबर के शासनकाल को उनकी प्रगतिशील नीतियों और नवरत्नों के लिए जाना जाता है लेकिन उनकी पत्नी जोधाबाई का भी उनके निर्णयों में गहरा प्रभाव था। जोधाबाई ने अकबर के साथ मिलकर कई आंतरिक और बाहरी नीतियों को आकार दिया जिससे मुगल साम्राज्य को नई दिशा मिली।

हमारा Whatsapp ग्रूप जॉइन करें Join Now

नूरजहां

जहांगीर के शासन काल में उनकी पत्नी नूरजहां ने अपने प्रभाव का परिचय दिया। नूरजहां ने न केवल दरबार में बल्कि राजनीतिक और सैन्य निर्णयों में भी अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उनकी चतुराई और निर्णय क्षमता ने जहांगीर के शासन को एक नई कामयाबी मिली ।

शाहजहां और मुमताज

शाहजहां के शासनकाल को उनके और मुमताज के प्रेम के लिए भी जाना जाता है। मुमताज ने शाहजहां के निर्णयों में गहरी भूमिका निभाई और उन्हें जटिल राजनीतिक परिस्थितियों में मार्गदर्शन किया। उनकी सलाह ने शाहजहां को कई बार सही दिशा में अग्रसर किया।