home page

हरियाणा में 2 महीनों के लंबे इंतजार के बाद शुरू हुआ बरसाती दौर, अच्छी बरसात के साथ इन जिलों में हुई दिन की शुरुआत

हरियाणा में लंबे इंतजार के बाद मौसम बदला है. साठ दिन बाद हरियाणा में झमाझम बारिश से गुरुवार की शुरुआत हुई है. हरियाणा की राजधानी चंडीगढ़, पंचकूला और दिल्ली से सटे जिलों में गुरुवार की सुबह झमाझम बारिश हुई है.
 | 
Rainfall in Haryana

हरियाणा में लंबे इंतजार के बाद मौसम बदला है. साठ दिन बाद हरियाणा में झमाझम बारिश से गुरुवार की शुरुआत हुई है. हरियाणा की राजधानी चंडीगढ़, पंचकूला और दिल्ली से सटे जिलों में गुरुवार की सुबह झमाझम बारिश हुई है.

हरियाणा में मौसम विभाग ने गुरुवार के लिए बारिश और ओलावृष्टि का ऑरेंज अलर्ट जारी किया है. सुबह पौने नौ बजे के करीब पंचकूला में बारिश जारी थी. इस दौरान तेज हवाएं भी चल रही हैं.

दिल्ली में बरसात का बोझ

जधानी दिल्ली एनसीआर में कल से रुक रुक कर बरसात हो रही है. यह हल्की बरसात बहादुरगढ़ के लोगों के लिए परेशानी का सब बन गई है. बरसात ने प्रशासन के पानी निकासी के दावों की पोल खोल कर रखती है.

जगह-जगह सीवरेज ब्लाक होने के कारण गलियों में पानी भर गया है. झज्जर रोड पर स्थित देवनगर की गली नंबर 5 पूरी तरह से गंदे पानी से लबालब भरी हुई है।

गलियों में पानी जमा हो गया

हरियाणा के बहादुरगढ़ में भी बरसात हुई है. हालांकि, बारिश से लोगों को परेशानी भी हुई है. बरसात ने प्रशासन के पानी निकासी के दावों की पोल खोल कर रखती है. जगह-जगह सीवरेज ब्लाक होने के कारण गलियों में पानी भर गया है। झज्जर रोड पर स्थित देवनगर की गली नंबर 5 पूरी तरह से गंदे पानी से लबालब भरी हुई है।

इतना ही नहीं शहर के कई निचले इलाकों में भी पानी भरने की वजह से लोग भारी परेशान है. बहादुरगढ़ में न्यूनतम तापमान 12 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है, इतना ही नहीं 16 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से ठंडी हवा चल रही है. गलियों में पानी भरा होने के कारण लोगों के रोजमर्रा के काम भी प्रभावित हो रहे हैं।

13 साल में सबसे ठंडा रहा जनवरी 

हरियाणा में इस सीजन में कड़ाके की सर्दी पड़ी है. पिछले 13 साल में जनवरी माह सबसे ठंडा रिकॉर्ड किया गया है. साथ ही हरियाणा में आठ साल बाद सबसे कम बारिश भी जनवरी में हुई है. जनवरी में सामान्य बारिश का औसत करीब 14.5 एमएम है.

राज्य में 99 फीसदी कम बारिश दर्ज की गई है. इससे पहले, 2016 में भी 99 फीसदी कम बारिश हुई थी। साल 2023 में 11.6 एमएम, 2022 में 69.4, 2021 में 20.9, 2020 में 23 और 2019 में 14.6 एमएम बारिश दर्ज की गई थी. मौसम विभाग की तरफ से ये आंकड़े जारी किए गए हैं.