home page

राजस्थान के सरकारी दफ़्तरों में अब नही अटका सकेंगे फाईल, भजनलाल सरकार ने किया बड़ा ऐलान

आज के तकनीकी युग में जहां हर क्षेत्र डिजिटलीकरण की ओर अग्रसर है वहीं राजस्व मंडल ने भी एक महत्वपूर्ण कदम उठाते हुए अंतरविभागीय फाइलों के मूवमेंट को ऑनलाइन करने का निर्णय लिया है। इस नई पहल के तहत फाइलों पर लिखी जाने वाली नोटशीट और उन्हें संबंधित विभागों में प्रेषित करने की प्रक्रिया अब पूर्णतः ऑनलाइन होगी।

 | 
राजस्थान के सरकारी दफ़्तरों में अब नही अटका सकेंगे फाईल, भजनलाल सरकार ने किया बड़ा ऐलान
   

आज के तकनीकी युग में जहां हर क्षेत्र डिजिटलीकरण की ओर अग्रसर है वहीं राजस्व मंडल ने भी एक महत्वपूर्ण कदम उठाते हुए अंतरविभागीय फाइलों के मूवमेंट को ऑनलाइन करने का निर्णय लिया है। इस नई पहल के तहत फाइलों पर लिखी जाने वाली नोटशीट और उन्हें संबंधित विभागों में प्रेषित करने की प्रक्रिया अब पूर्णतः ऑनलाइन होगी।

नई प्रणाली

राजस्व मंडल में रोजाना 500 से अधिक पत्रावलियों का मूवमेंट होता है। यह नई प्रणाली न केवल मानवीय श्रम और समय की बचत करेगी, बल्कि प्रक्रियाओं को अधिक सुगम और पारदर्शी भी बनाएगी। इसके साथ ही, फाइलों के अटकने या खोने की संभावना में भी कमी आएगी जिससे कार्यकुशलता में बढ़ोतरी होगी।

पारदर्शिता और ज्यादा सेवाएँ

इस डिजिटल पहल के माध्यम से न केवल पारदर्शिता बढ़ेगी बल्कि पत्रावली से संबंधित कार्य भी जल्दी संपन्न हो सकेंगे। इससे संबंधित व्यक्तियों और विभागों को अपेक्षित राहत मिलेगी। यदि कोई पत्रावली निर्धारित समय से अधिक समय तक रोकी जाती है तो अधिकारी संबंधित कार्मिक से जानकारी लेकर उसे आगे भेजने के निर्देश देंगे।

विभागों के बीच निर्बाध मूवमेंट

मंडल के सभी विभागों की पत्रावलियां, न्यायिक कार्यों को छोड़कर, अब ऑनलाइन मूवमेंट के लिए उपलब्ध होंगी। इसमें राजस्व विभाग के कर्मचारियों, तहसीलदारों, पटवारियों, भू-अभिलेख निरीक्षकों की नियुक्तियां, तबादले, पदोन्नति, जांच, सरकारी डाक, पत्र, अधिसूचना आदि संबंधित प्रशासनिक कार्यों का समावेश है।

यह भी पढ़ें; गैस पर रखकर दूध को भूल जाएंगे तो भी नही उबलेगा दूध, ये देसी जुगाड लगाते ही आपका काम हो जायेगा आसान

कर्मचारियों और नागरिकों के लिए फायदा 

इस नई प्रणाली से कर्मचारियों को फाइलों के फिजिकल मूवमेंट में लगने वाले समय और ऊर्जा की बचत होगी वहीं नागरिकों को भी उनके कार्यों की ज्यादा पूर्ति में सहायता मिलेगी। यह प्रणाली सरकारी प्रक्रियाओं में आधुनिकीकरण और डिजिटल इंडिया की ओर एक मजबूत कदम है।