home page

इस जगह को देख शाहजहां को आया था ताजमहल बनाने का आइडिया, असली जगह को देख तो आप भी रह जाएंगे हैरान

ताजमहल आपने कई बार देखा होगा, लेकिन आपने कभी सोचा है कि शाहजहां को ताजमहल बनाने का विचार कहां से आया? वास्तव में, लोग अक्सर पूछते हैं कि शाहजहां ने ऐसी सुंदर इमारत बनाने के लिए क्या सोचा होगा...
 | 
shahjahan-inspired-with-jagmandir-udaipur

ताजमहल आपने कई बार देखा होगा, लेकिन आपने कभी सोचा है कि शाहजहां को ताजमहल बनाने का विचार कहां से आया? वास्तव में, लोग अक्सर पूछते हैं कि शाहजहां ने ऐसी सुंदर इमारत बनाने के लिए क्या सोचा होगा या क्या चीज उसने देखी होगी जिसकी वजह से सातवां अजूबा बनाया गया। चलिए फिर से वह स्थान बताते हैं, जहां शाहजहां प्रेरित हुआ था।

इस जगह को देखकर मिली प्रेरणा

नीली झीलों का शहर लेकसिटी उदयपुर इतना सुंदर है कि हर कोई इसका दीवाना हो जाता है, जैसा कि सम्राट शाहजहां ने किया था। जब वे मेवाड़ में शरण लेने गए, तो उन्होंने उदयपुर के जग मंदिर की सुंदरता को देखकर हैरान हो गए और उसी जगह ताजमहल बनाया।

पिछ्लो झील के बीच जग मंदिर

पिछोला झील के बीच जग मंदिर पैलेस का निर्माण किया गया है, 1747 में महाराणा जगत द्वितीय ने उदयपुर शहर के पिछोला झील के बीच टापु पर मंदिर पैलेस बनाया था। झील बीच में है, इसलिए इसके आसपास जल है, जो इसकी खूबसूरती को और भी बढ़ाता है।

बड़ा ही भव्य है ये महल

ये महल तीन मंजिला है और पीले बलुआ पत्थर और संगमरमर से बना है। जग मंदिर पैलेस में एक अद्भुत नक्काशी भी है, जिसमें हाथियों की एक पंक्ति महल के रक्षकों की तरह दिखती है।

जग मंदिर पैलेस

17वीं शताब्दी के शुरूआती सालों में महाराजा कर्ण सिंह ने जग मंदिर पैलेस को राजकुमार खुर्रम (शाहजहां) के लिए छिपने के लिए बनाया था। 1620 से 28 तक, महाराजा कर्ण सिंह ने इस क्षेत्र पर शासन किया, जब राजकुमार खुर्रम ने अपने पिता के खिलाफ विद्रोह किया। यह समय था जब शाहजहां ने ताजमहल बनाया था।

उदयपुर में सिटी पैलेस के पास है जगह

उदयपुर में सिटी पैलेस के सामने बंसी घाट से नाव लेकर जग मंदिर जा सकते हैं। पर्यटक यहां रात में खाना खाकर महल भी देख सकते हैं। रात को खाने के लिए पहले से योजना बनाना बेहतर है। उदयपुर सिटी पैलेस के गेट से ही आप इस द्वीप का टिकट खरीद सकते हैं।

पैलेस में एंट्री टिकट

पैलेस एंट्री टिकट पर्सनल नाव की कीमत के लिए 175 रुपए से 500 रुपए प्रति व्यस्क और नॉर्मल बोटिंग के लिए प्रति बच्चा 150 रुपए, 700 रुपए प्रति व्यस्क और सनसेट बोट के लिए प्रति बच्चा 300 है।