home page

बूढ़े ताऊ की गोद में बैठकर डांसर ने मारे जोरदार झटके, ताऊ के मात्थे से टपकने लगा पसीना तो लोगों का हंसते हंसते दुखने लगा पेट

हरियाणवी संस्कृति और इसके लोक संगीत में रागनी कंपीटिशन का विशेष स्थान है। इस तरह के आयोजन न सिर्फ संस्कृति को जीवित रखते हैं बल्कि समाज के विभिन्न पहलुओं पर प्रकाश डालते हैं।
 | 
new-haryanvi-dance-video-from-mahendragarh
   

हरियाणवी संस्कृति और इसके लोक संगीत में रागनी कंपीटिशन का विशेष स्थान है। इस तरह के आयोजन न सिर्फ संस्कृति को जीवित रखते हैं बल्कि समाज के विभिन्न पहलुओं पर प्रकाश डालते हैं। महेंद्रगढ़ में आयोजित एक ऐसे ही कार्यक्रम में हुई घटना ने सबका ध्यान आकर्षित किया है।

एक अनोखी प्रस्तुति का उदाहरण 

साल 2023 की इस घटना में एक डांसर ने स्‍टेज पर ऐसी प्रस्तुति दी जिसने सभी को चकित कर दिया। काले रंग के सूट में सजी वह डांसर 'अनाड़ी नंबर-1' फिल्म के एक गाने पर नृत्य कर रही थी। उसके डांस की शुरुआत होते ही स्‍टेज पर पैसों की बरसात होने लगी जो इस तरह के आयोजनों में दर्शकों की प्रशंसा का प्रतीक है।

एक खास पल 

इस प्रस्तुति का एक पल विशेष रूप से चर्चा का विषय बना जब डांसर ने पैसे इकट्ठा करते हुए एक ताऊ की गोद में बैठ जाने का निर्णय लिया। यह पल उपस्थित लोगों के लिए न मानने वाला था और उन्हें आश्चर्यचकित कर गया।

समाज का प्रतिबिंब

इस घटना को देखकर पास में बैठे अन्य बूढ़े लोगों की प्रतिक्रिया सोचने वाली थी। कुछ लोगों ने आंखें चुराई तो कुछ इधर-उधर देखने लगे। यह डांस समाज में व्यक्तिगत स्वतंत्रता और सामाजिक मर्यादा के बीच के तनाव को दर्शाता है।

डांस का जादू

बावजूद इसके डांसर की प्रस्तुति का जादू ऐसा था कि दर्शकों की प्रतिक्रिया में उत्साह और प्रशंसा स्पष्ट रूप से झलकती थी। उनका डांस न सिर्फ तकनीकी रूप से खास था बल्कि उसमें एक अनोखा आकर्षण भी था जो दर्शकों को बांधे रखने में सफल रहा।

सामाजिक मानदंडों पर प्रश्नचिह्न

यह घटना हमें सामाजिक मानदंडों और व्यक्तिगत स्वतंत्रता के बीच की बारीक रेखा पर विचार करने के लिए प्रेरित करती है। कला और सांस्कृतिक प्रस्तुतियाँ अक्सर समाज के नियमों को चुनौती देती हैं और नए विचारों को जन्म देती हैं।