home page

SSY Account: घर बैठे ही चेक कर पाएंगे बेटी के सुकन्या समृद्धि योजना के खाते में कितना है पैसा, बड़ा ही आसान है ये पूरा प्रॉसेस

SSY Account: सरकार ने सुकन्या समृद्धि योजना शुरू की है ताकि बेटियों का भविष्य सुरक्षित रहे और उनकी शिक्षा को सुरक्षित रख सके। इस योजना में निवेश करने पर आपको गारंटी ब्याज मिलता है।
 | 
Sukanya Samriddhi Yojana (4)

SSY Account: सरकार ने सुकन्या समृद्धि योजना शुरू की है ताकि बेटियों का भविष्य सुरक्षित रहे और उनकी शिक्षा को सुरक्षित रख सके। इस योजना में निवेश करने पर आपको गारंटी ब्याज मिलता है। इस मामले में सरकार कंपाउंडिंग इंटरेस्ट देती है। 10 साल से कम उम्र की बच्ची के नाम से माता-पिता या अभिभावक इस कार्यक्रम के तहत एक खाता खोला सकते हैं।

21 वर्ष की आयु पूरी होने पर खाता वैध होता है। हालाँकि, इसमें केवल 15 साल का निवेश आवश्यक है। वर्तमान में सरकार इस स्कीम पर 8 प्रतिशत का ब्याज देती है। इस योजना में आप कम से कम 250 रुपये का निवेश कर सकते हैं, और आप प्रति वर्ष 1.5 लाख रुपये का निवेश कर सकते हैं।

कैसे करें आवेदन

  • अगर आप भी इस योजना का लाभ उठाना चाहते हैं तो आपको सुकन्या समृद्धि योजना का आवेदन फॉर्म पोस्ट ऑफिस या बैंक की वेबसाइट पर डाउनलोड करना होगा।
  • यह फॉर्म भरने के बाद आपको अपनी फोटो, बच्ची का जन्म सर्टिफिकेट और माता-पिता की आईडी प्रूफ के साथ अन्य डॉक्यूमेंट्स जोड़ना होगा।
  • इसके बाद निकटतम बैंक या पोस्ट ऑफिस में जाकर फॉर्म को दस्तावेजों के साथ सबमिट कर दें।
  • कर्मचारी मूल दस्तावेज और फॉर्म चेक करने के बाद बच्ची के नाम पर खाता खोला जाएगा।
  • आप फिर बच्ची के खाते में पैसे डाल सकते हैं।

ऐसे चेक करें बैंक स्टेटमेंट

  • सुकन्या समृद्धि योजना का बैलेंस ऑनलाइन देखने के लिए आपको नेट बैंकिंग का उपयोग करना होगा।
  • आपको अपना पासवर्ड और यूजरनेम दर्ज करके लॉग-इन करना होगा।
  • इसके बाद, आप सभी अकाउंट्स के नंबरों को डैशबोर्ड पर देखेंगे।
  • अब स्क्रीन की बाई तरफ Account Statement का ऑप्शन चुनें।
  • इसके बाद सूची में सुकन्या अकाउंट नंबर पर क्लिक करें।
  • अब आप स्क्रीन पर बैलेंस शो देखेंगे।

31 मार्च को बंद हो जाएंगे ये सुकन्या अकाउंट

यदि सुकन्या अकाउंट में एक साल के भीतर न्यूनतम निवेश नहीं किया जाता है, तो अकाउंट बंद हो सकता है। 31 मार्च तक सभी अकाउंट इनएक्टिव हो जाएंगे जिनमें सालाना न्यूनतम डिपॉजिट नहीं होता है। अकाउंट को फिर से शुरू करने के लिए पेनल्टी देनी होगी।