home page

Success Story: अच्छी खास सैलरी वाली नौकरी को छोड़ शख्स ने बेचना शुरू कर दिया अमरूद, किस्मत ऐसी चमकी की अब सालाना कमाई है करोड़ों में

राजीव भास्कर एक धनी कृषक हैं। लाखों लोग आज उसे प्रेरणा मानते हैं। वह एक बीज कंपनी में रायपुर में काम करता था। उन् होंने कभी नहीं सोचा था कि कंपनी में काम करते हुए उन्हें मिलने वाला अनुभव एक दिन उन्हें अमीर...
 | 
Success of Rajeev Bhaskar

राजीव भास्कर एक धनी कृषक हैं। लाखों लोग आज उसे प्रेरणा मानते हैं। वह एक बीज कंपनी में रायपुर में काम करता था। उन् होंने कभी नहीं सोचा था कि कंपनी में काम करते हुए उन्हें मिलने वाला अनुभव एक दिन उन्हें अमीर किसान बना देगा। वीएनआर सीड्स में वह सेल्स और मार्केटिंग टीम में था।

यहां काम करते हुए उन्हें भारत के हर कोने में किसानों से मिलने का मौका मिला। इससे कृषि में उनकी रुचि बढ़ गई। राजीव ने बातचीत के दौरान थाई अमरूद की खेती और इसकी विशिष्ट किस्म के बारे में पता लगाया। यह उनकी सफलता का रास्ता बनाया। वह कंपनी में रहते हुए एमबीए भी कर चुके थे। राजीव गांधी की पूरी यात्रा यहाँ जानें।

नौकरी छोड़कर खेती करने का निर्णय

राजीव भास् कर नैनीताल से हैं। उनका जन्म यहीं हुआ था। 2017 में राजीव ने साहसिक निर्णय लिया था। अपने पद से त्याग कर थाई अमरूद की खेती करने का निर्णय लिया। इसके लिए उन् होंने पंचकुला, हरियाणा में पांच एकड़ जमीन किराये पर ली।

राजीव ने अवशेष-मुक्त कृषि तकनीकों को अपनाया। फसल के लिए केवल जैविक बायोसाइड और बायोफर्टिलाइजर का प्रयोग किया गया। उन् होंने कृषि को थ्री-लेयर बैगिंग एप्रोच से बचाया।

20 लाख रुपये की कमाई अमरूद खेती से

2017 के अक्टूबर और नवंबर में राजीव ने अमरूद की खेती और बिक्री से 20 लाख रुपये कमाए। उन्होंने वैसे भी अवशेष-मुक्त सब्जी उत्पादन पर ध्यान दिया था। लेकिन उनके प्रमोशनल दावे असफल रहे।

इसके परिणामस्वरूप, उन्होंने थाई अमरूद की खेती करने का रणनीतिक निर्णय लिया। 2019 में, तीन अन्य निवेशकों ने पंजाब के रूपनगर में 55 एकड़ भूमि पट्टे पर ली।

दवाओं की सप्लाई पर खास ध्यान

राजीव और उनकी टीम ने 25 एकड़ जमीन पर अमरूद की खेती की। जबकि पंचकुला में थाई अमरूद की मूल पांच एकड़ जमीन को 2021 में बेचने तक बनाए रखा। अमरूद के पौधों को वर्ष में दो बार काटते हैं: बारिश के मौसम में और सर्दियों में।

टीम ने प्रतिस्पर्धा से बचने के लिए बारिश के दौरान अपनी उपज की मार्केटिंग की। राजीव ने दिल्ली एपीएमसी बाजार में 10 किलोग्राम के बक्सों में अपनी वस्तुएं बेचकर लगातार प्रति एकड़ 6 लाख रुपये का औसत लाभ कमाया।

उपज बढ़ाने की कोशिश कर रहे हैं

राजीव अमरूद के पेड़ों का लक्ष्य आगे चलकर 25 किलोग्राम प्रति वृक्ष से 40 किलोग्राम प्रति वृक्ष करना है। Rajiv कहते हैं कि जहां रासायनिक खेती कम प्रचलित है, जैविक खेती करने का महत्व है। वह यह भी मानते हैं कि जैविक खेती को रसायनों से घिरे क्षेत्रों में बनाए रखना कठिन है।