home page

Success Story: कभी 300 रुपए की दिहाड़ी करके पालती थी परिवार का पेट, अब देहाती मैडम के नाम से यूट्यूब से कर रही है तगड़ी कमाई

सोशल मीडिया ने ग्रामीण क्षेत्रों तक भी पहुँच बनाई है। इससे गांवों और शहरों के बीच की दूरी कम हो गई है। गांवों में छुपी प्रतिभाओं को प्रकट करने में इंटरनेट कनेक्टिविटी ने मदद की है।
 | 
success of Yashoda Lodhi

सोशल मीडिया ने ग्रामीण क्षेत्रों तक भी पहुँच बनाई है। इससे गांवों और शहरों के बीच की दूरी कम हो गई है। गांवों में छुपी प्रतिभाओं को प्रकट करने में इंटरनेट कनेक्टिविटी ने मदद की है। सिर्फ इतना ही नहीं, उन्हें आगे बढ़ने का मंच भी दिया गया है।

यशोदा लोधी उत्तर प्रदेश के ग्रामीण इलाकों से आते हैं, जो इस बदलाव का उदाहरण हैं। उन्होंने अपनी स्किल् स का फायदा उठाकर गरीब बेड़ियों को तोड़ दिया है। उसकी आय अब कई सरकारी कर्मचारियों से अधिक है। आज हम यशोदा लोधी से मिलेंगे।

यशोदा लोधी कौन हैं?

सोशल मीडिया पर, लोग यशोदा लोधी को प्यार से "देहाती मैडम" कहते हैं। यूट्यूब पर वह अंग्रेजी सिखाती है। यशोदा कौशांबी में सिराथू में रहती हैं। उनके यूट्यूब चैनल ने लाखों लोगों को अंग्रेजी बोलना सिखाया है।

पहली बार देखने पर यशोदा लोधी कोई साधारण गांव की महिला लगती है। साड़ी के साथ लिपटी हुई माथे पर बिंदी। यद्यपि, अंग्रेजी सिखाने और बोलने का उनका अपमानजनक तरीका सोशल मीडिया पर चर्चा में है।

साधारण परिवार में हुई परवरिश

यशोदा ने एक साधारण परिवार में जन्म लिया था। वह अपनी मामा के घर में बड़ा हुआ। यहां वह बारहवीं कक्षा तक हिंदी में पढ़ा। उन्होंने हिंदी-माध्यम स्कूल से स्नातक करने के बाद बच्चों को पढ़ाना शुरू किया। इसी दौरान उन्होंने अपने जीवनसाथी से मुलाकात की।

लेकिन उनके रिश्ते को उनके परिवार ने विरोध किया। यशोदा को संपत्ति विवादों और पारिवारिक कलह के कारण अपने माता-पिता के घर वापस जाना पड़ा। फिर भी, उनके रिश्ते को पारिवारिक मंजूरी नहीं मिलने के कारण उन्हें वहां कोई राहत नहीं मिली।

दुर्व्यवहार का सामना करते हुए, उन् होंने शादी का विकल्प चुनकर मामले को अपने हाथों में ले लिया। पारिवारिक दबावों के बावजूद, यशोदा और उनका पति स्वतंत्र रूप से आगे बढ़ने का निर्णय लेते हैं।

2021 में यूट्यूब चैनल बनाया

यशोदा, जो आठवीं कक्षा में पढ़ती थी, पहले दिहाड़ी मजदूर थे। हालाँकि, 2019 में वह एक दुर्घटना में मारा गया, जिससे भाग्य परेशान हो गया। इससे वह काम नहीं कर पाए। यही वह समय था जब यशोदा ने वित्तीय स्थिरता का असली महत्व समझा।

यशोदा ने अपना सफर नवंबर 2021 में अपने पहले स्मार्टफोन से शुरू किया था। संदीप माहेश्वरी जैसे स् पीकर्स से प्रेरित होकर उन्होंने तकनीक का उपयोग करके परिवार को बेहतर बनाने का निर्णय लिया। उन्होंने इस तरह अपना खुद का YouTube चैनल शुरू किया, जो लोगों को अंग्रेजी सिखाने में मदद करता था।

सरकारी कर्मचारियों की तुलना में अधिक आय

"देहाती मैडम" के रूप में प्रसिद्ध होने के बाद, यशोदा ने सोशल मीडिया पर तेजी से लोकप्रियता हासिल की। कारण यह है कि उन्होंने बहुत सारे इंस्ट्रक्शनल वीडियो बनाए हैं।

उन्हें वह दिन भी याद है जब उनका परिवार सात-आठ लोगों में सिर्फ 300 रुपये में रहता था। वह अब प्रति महीने 70,000-80,000 रुपये कमाती है। उनका वेतन गांव के अन्य सरकारी कर्मचारियों से अधिक है।