home page

इस राज्य में किसानों की इन फसलों को जब्त करेगा प्रशासन, जाने क्या है पूरा मामला

बिहार के रोहतास जिले के नोखा थाना क्षेत्र में पेनार गांव की एक जमीन का विवाद हाल ही में जिला लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी (पीजीआरओ) के संज्ञान में आया है।
 | 
rohtas-farmers-should-be-alert-administration
   

बिहार के रोहतास जिले के नोखा थाना क्षेत्र में पेनार गांव की एक जमीन का विवाद हाल ही में जिला लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी (पीजीआरओ) के संज्ञान में आया है। इस विवाद में जमीन की मालिकाना हक और उस पर होने वाली खेती को लेकर असमंजस की स्थिति है। पेनार गांव के निवासी सुशील कांत पांडेय ने इस जमीन पर कब्जा करने और इसकी वजह से खेतों की सिंचाई में बाधा पहुंचने की शिकायत की है।

चैती फसल को जब्त करने का आदेश

शिकायत की सुनवाई करते हुए पीजीआरओ ने नोखा अंचलाधिकारी को आदेश दिया है कि विवादित जमीन पर उगाई गई चैती फसल को जब्त किया जाए और इससे प्राप्त रकम को सरकारी कोषागार में जमा करवाया जाए। इस कदम का उद्देश्य विवाद के समाधान तक जमीन के उपयोग से होने वाले लाभ को निष्पक्ष रूप से संभालना है।

फसल काटने पर रोक और आहर की खोदाई

नोखा अंचल प्रशासन ने खाता संख्या 895 खेसरा नंबर 203 पर उगाई गई फसल को किसी भी पक्ष द्वारा काटने पर रोक लगा दी है। साथ ही, उक्त जमीन में उगाई गई गेहूं की फसल को काटने के बाद, आहर की खोदाई करके जमीन को पूर्व की स्थिति में लाने का निर्देश दिया गया है। इस प्रक्रिया को शुरू कर दिया गया है जिससे जमीन के मूल उद्देश्य को पुनः प्राप्त किया जा सके।

यह भी पढ़ें; शादीशुदा महिलाएं इन आदतों वाले मर्दों को मानती है बड़ा बेवकूफ, जमकर करती है इस्तेमाल

कानूनी कार्रवाई की चेतावनी

अंचल प्रशासन ने जमीन पर जबरन कब्जा करने की घटनाओं की वीडियोग्राफी कराकर पीजीआरओ को सूचित किया है। अंचलाधिकारी मधुसूदन चौरसिया ने यह भी बताया कि खेत में खड़ी फसल पकने के बाद प्रशासन आगे की कार्रवाई शुरू करेगा। उन्होंने चेतावनी दी है कि अगर किसी ने भी जबरन फसल काटने का प्रयास किया, तो उस पर प्राथमिकी दर्ज कर कानूनी कार्रवाई की जाएगी।