home page

मां ने मजदूरी तो पिता ने कंडक्टर की नौकरी करके बेटी को पढ़ाया, बेटी ने हिम्मत के दम पर क्रैक कर दिया UPSC

तमिलनाडु के तेनकासी जिले की रहने वाली एस इनबा ने वास्तविकता में यह सिद्ध कर दिखाया है कि "जहां चाह वहां राह"। एक सामान्य परिवार से आने वाली इनबा के पिता एक रिटायर्ड बस कंडक्टर हैं और मां एक बीड़ी फैक्ट्री...
 | 
S Inba Upsc Know Success Story
   
WhatsApp Group Join Now

तमिलनाडु के तेनकासी जिले की रहने वाली एस इनबा ने वास्तविकता में यह सिद्ध कर दिखाया है कि "जहां चाह वहां राह"। एक सामान्य परिवार से आने वाली इनबा के पिता एक रिटायर्ड बस कंडक्टर हैं और मां एक बीड़ी फैक्ट्री में काम करती हैं।

गरीबी और संसाधनों की कमी उनके इरादों को कमजोर नहीं कर पाई। इनबा ने दिखाया कि मजबूत इरादे और कड़ी मेहनत से किसी भी मुश्किल को पार किया जा सकता है।

ये भी पढ़िए :- हरियाणा प्रदेश में 1200 नए पटवारियों की होगी भर्ती, इस आधार पर किया जाएगा सिलेक्शन

यूपीएससी की चुनौतीपूर्ण यात्रा

यूपीएससी - भारत में सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक। इनबा के लिए यह यात्रा और भी जटिल थी क्योंकि उन्हें न केवल आर्थिक संघर्षों का सामना करना पड़ा बल्कि कोरोना वायरस के कारण लगे लॉकडाउन ने भी उनकी पढ़ाई में बाधा डाली।

लेकिन इनबा ने इन सभी बाधाओं को पार करते हुए अपनी पढ़ाई जारी रखी और यूपीएससी परीक्षा में 851वीं रैंक हासिल की।

अध्ययन का सहारा बनी सरकारी लाइब्रेरी

जब इनबा के पास कोचिंग क्लासेस जाने का विकल्प नहीं बचा तो उन्होंने अपने जिले की सरकारी लाइब्रेरी को अपनी पढ़ाई का केंद्र बना लिया। वह प्रतिदिन लगभग 12 घंटे लाइब्रेरी में बितातीं जहां उन्हें न केवल अध्ययन सामग्री मिलती बल्कि शांत और प्रेरक वातावरण भी मिलता था।

विफलताओं को पार करती एक युवा महिला

इनबा ने पहले दो प्रयासों में यूपीएससी की प्रारंभिक परीक्षा पास नहीं की। हालांकि हार मानने के बजाय उन्होंने अपनी तैयारी में और अधिक मेहनत की। उन्होंने अपने सपनों को साकार करने के लिए अखिल भारतीय सिविल सेवा संस्थान में नि:शुल्क कोचिंग का लाभ उठाया और अंततः यूपीएससी की परीक्षा में सफलता प्राप्त की।

ये भी पढ़िए :- ऐसे मर्दों को भूलकर भी जवां औरत से नही करनी चाहिए शादी, वरना जिंदगीभर रहता है इस चीज का पछतावा

प्रेरणा का स्रोत और एक माँ की खुशी

इनबा की प्रेरणा उनकी माँ थीं जिन्होंने कभी भी उनकी शिक्षा में किसी भी प्रकार की कमी नहीं आने दी। इनबा की कामयाबी पर उनकी माँ ने कहा कि वह अपनी बेटी की सफलता पर अत्यंत प्रसन्न हैं और गर्व महसूस कर रही हैं।

इनबा की कहानी न केवल उनके परिवार के लिए बल्कि पूरे समाज के लिए एक प्रेरणा है जो दर्शाती है कि कठिनाइयों के बावजूद मेहनत और लगन से सपने सच हो सकते हैं।