home page

सालियों ने जल्दबाजी में दूल्हे की जगह पंडित जी के चुरा लिए जूतें, उसके बाद दूल्हे के दोस्तों ने लिया गजब का बदला

भारतीय शादियां अपने आप में एक उत्सव से कम नहीं होतीं। हर रस्म और रीति-रिवाज में छुपी मासूमियत और खुशियां विवाह समारोह को एक यादगार बना देती हैं। इन्हीं परंपराओं में से एक है ‘जूता चुराई’ जो हर भारतीय शादी का...
 | 
bride-sister-theft-pandit-ji-shoes-instead
   

भारतीय शादियां अपने आप में एक उत्सव से कम नहीं होतीं। हर रस्म और रीति-रिवाज में छुपी मासूमियत और खुशियां विवाह समारोह को एक यादगार बना देती हैं। इन्हीं परंपराओं में से एक है ‘जूता चुराई’ जो हर भारतीय शादी का एक अहम हिस्सा है। इस रस्म में अक्सर हास्यास्पद किस्से भी सामने आते हैं जो शादी की रौनक को और भी बढ़ा देते हैं।

पंडित जी के जूते चुरा ले गई दुल्हन की बहनें

हाल ही में सोशल मीडिया पर वायरल हुआ एक वीडियो जूता चुराई की इसी परंपरा का एक अनोखा किस्सा प्रस्तुत करता है। जहां सामान्यतः सालियां अपने होने वाले जीजू के जूते चुराती हैं वहीं इस वीडियो में दुल्हन की बहनें गलती से पंडित जी के जूते चुरा लेती हैं।

इस हास्यास्पद गलती को देखकर हर कोई हंसी से लोट-पोट हो जाता है। वीडियो में दिखाई देने वाली यह घटना न सिर्फ शादी की रस्मों में एक हल्की-फुल्की और मनोरंजक घटना है। बल्कि यह बताती है कि कैसे एक छोटी सी गलती से भी खुशियों के इस उत्सव में हास्य का तड़का लग सकता है।

हमारा Whatsapp ग्रूप जॉइन करें Join Now

दूल्हे के दोस्त द्वारा यह खुलासा करने पर कि उन्होंने गलती से पंडित जी के जूते चुरा लिए हैं। वहां उपस्थित सभी लोगों की हंसी छूट जाती है। यह पल शादी की अन्य सभी यादों में एक मजेदार किस्से के रूप में जुड़ जाता है।

सोशल मीडिया पर लोगों प्रतिक्रियाएं

इस वीडियो को मिली प्रतिक्रियाएं विविधतापूर्ण और उत्साहित करने वाली हैं। जहाँ एक ओर कुछ यूजर्स ने इसे जूता चुराई की परंपरा का एक अनोखा और हास्यास्पद रूप माना, वहीं कुछ ने इसे शादी की रस्मों में होने वाली जल्दबाजी और भ्रम की स्थिति का एक उदाहरण बताया।

इस वीडियो को देखने के बाद बहुत से लोगों ने अपनी शादी या अपने परिचितों की शादी में हुई समान हास्यास्पद घटनाओं को याद किया और साझा किया। जूता चुराई रस्म भारतीय शादियों की एक अनोखी परंपरा है।

जो विवाह समारोह में हल्की-फुल्की नोक-झोंक और मस्ती जोड़ देती है। यह रस्म न केवल दुल्हन और दूल्हे के परिवारों के बीच स्नेह और समझदारी बढ़ाती है बल्कि शादी की यादों में हंसी के कुछ खास पल भी जोड़ देती है।