home page

रेल्वे के द्वारा पार्सल भेजने के लिए फ़ॉलो करना पड़ता है ये खास नियम, जाने माल भेजने के लिए कितना लगता है किराया

आपके लिए बता दें कि भारतीय रेलवे दुनिया का चौथा सबसे बड़ा रेलवे नेटवर्क है। दैनिक रूप से लाखों लोग लक्ष्य पर पहुंचते हैं। अक्सर हमें ट्रेन से दूसरे शहर जाना पड़ता है। ऐसे में आप ट्रेन से आसानी से कोई भी सामान ले सकते हैं।
 | 
Indian Railways news

आपके लिए बता दें कि भारतीय रेलवे दुनिया का चौथा सबसे बड़ा रेलवे नेटवर्क है। दैनिक रूप से लाखों लोग लक्ष्य पर पहुंचते हैं। अक्सर हमें ट्रेन से दूसरे शहर जाना पड़ता है। ऐसे में आप ट्रेन से आसानी से कोई भी सामान ले सकते हैं।

मालभाड़े से भी रेलवे कमाई करता है। दैनिक रूप से रेलवे माल गाड़ी और पार्सल ट्रेनों से माल ढुलाई करता है। भारतीय रेलवे में आप सामान को दो तरीकों से भेज सकते हैं। पहला विकल्प पार्सल या लगेज है।

यात्रा के दौरान अपने सामान को ले जाना लगेज है। आप इसे वहीं पार्सल में ले जा सकते हैं। पार्सल का अर्थ है कि आप अपना सामान नहीं ले जा रहे हैं। बल्कि किसी जगह उसे भेज रहे हैं।

किराया क्या है?

रेलवे से माल भेजने पर किराया वजन और दूरी पर निर्भर करता है। पार्सल लगेज की तुलना में सस्ता है। वेबसाइट पर किलोमीटर और पार्सल वजन के हिसाब से किराये की दरों के साथ रेलवे चार्ट हैं। मान लीजिए आप पटना से दिल्ली की ओर 25 किलो वजन की एक ट्रेन ले जाना चाहते हैं, तो आपको 320 रुपये का किराया देना होगा।

वास्तव में, रेलवे पार्सल चार्ट के अनुसार, 1051 से 1075 किलोमीटर की दूरी पर 50 किलो वजनी पार्सल का किराया 320.16 रुपये है। वहीं, एक क्विंटल से अधिक माल पर पार्सल चार्ज 533 रुपये होगा। रेलवे पार्सल काउंटर आपको बताएगा कि इसमें अतिरिक्त खर्च हो सकता है।

रेलवे पार्सल टिकट बुकिंग कैसे करें?

पार्सल ट्रेन से टिकट ऑनलाइन या ऑफलाइन खरीद सकते हैं। Indian Railway व्यक्तिगत और व्यावसायिक पार्सल सेवाएं देता है। ट्रेन से बाइक या घरेलू सामान का भारी सामान बुक करना आसान है। आप पार्सल बुकिंग करने के लिए रेलवे स्टेशन पर पार्सल काउंटर या https://parcel.indianrail.gov.in पर जा सकते हैं।