home page

दिल्ली-जयपुर हाईवे पर सफर करने वालों पर मंडराता है ये बड़ा खतरा, इन जगहों पर आ चुकी है दरारें

अगर आप भी दिल्ली-जयपुर हाईवे पर सफर करते हैं, तो अब सावधान हो जाइए। दिल्ली-जयपुर हाईवे पर गुरुग्राम में तीन अंडरपास की दीवारों और सड़कों में दरारें हैं।
 | 
This big danger looms on Delhi-Jaipur highway

अगर आप भी दिल्ली-जयपुर हाईवे पर सफर करते हैं, तो अब सावधान हो जाइए। दिल्ली-जयपुर हाईवे पर गुरुग्राम में तीन अंडरपास की दीवारों और सड़कों में दरारें हैं। यदि इन्हें जल्द ठीक नहीं किया जाता, तो बड़ा हादसा हो सकता है। गुरुग्राम महानगर विकास प्राधिकरण (जीएमडीए) की जांच रिपोर्ट ने यह जानकारी दी है।

यह रिपोर्ट हरियाणा के मुख्य सचिव संजीव कौशल को जीएमडीए ने दी है। मुख्य सचिव ने भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) के अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि जीएमडीए को इस अंडरपास देने से पहले की जांच में पाए गए सभी कमियों को सुधारें।

NHAI के अधिकारी पिछले एक साल से राजीव चौक अंडरपास, इफको चौक और सिग्नेचर टावर को संभालने के लिए पत्र लिख रहे हैं। जिनमें कमियां थीं, जीएमडीए अधिकारियों ने उनका रखरखाव नहीं किया। NHAI ने इसके बाद मुख्य सचिव से शिकायत की। उनसे अनुरोध किया कि जीएमडीए अधिकारियों को इन अंडरपास को अपने नियंत्रण में लेने का आदेश दिया जाए।

जीएमडीए अधिकारियों की जांच रिपोर्ट

इस सिलसिले में 31 जनवरी को मुख्य सचिव की अध्यक्षता में बैठक हुई। जीएमडीए अधिकारियों की जांच रिपोर्ट इसमें शामिल है। उसने कहा कि इफको चौक अंडरपास में बरसाती पानी की निकासी व्यवस्था अच्छी नहीं है। इससे एक तरफ की दीवार सील गई है। राजीव चौक अंडरपास में इफको चौक और सिग्नेचर टावर की दीवारों में दरार आ गई है।

यदि इस विवाद को जल्द ही पता नहीं लगाया जाता है, तो भविष्य में इसकी वजह से बड़ी समस्याएं पैदा हो सकती हैं। इसके अलावा, सड़क पर तीनों अंडरपास की कंकरीट जगह-जगह टूट गई हैं। फुटपाथों को चोट लगी है। सिग्नेचर टावर और इफको चौक पर राष्ट्रीय राजमार्ग को पार करने के लिए बनाए गए फुट ओवर ब्रिज (FOB) के एस्क्लेटर बंद हैं।

बड़ी दुर्घटना का कारण बन सकता है

अंडरपास के ऊपर लगी शेड को चोट लगी है। जिन पिलरों पर शेड लगे हैं, वे खराब हो गए हैं। यह बहुत बड़ी दुर्घटना का कारण बन सकता है। GMDA अधिकारियों ने मुख्य सचिव से अनुरोध किया कि NHAI अधिकारी इन कमियों को सुधारें। इसके बाद रखरखाव के लिए इसे ले जाएगा।

पॉलिसी बनाने का काम सौंपा गया

यह भी बताया गया कि पिछले साल फरवरी में जीएमडीए के तत्कालीन सीईओ की अध्यक्षता में एक बैठक हुई थी, जिसमें अंडरपास को नियंत्रित करने पर व्यापक चर्चा हुई थी। दिल्ली-जयपुर राष्ट्रीय राजमार्ग का हिस्सा होने के कारण जीएमडीए इन अंडरपास को अपने पास ले सकता है या नहीं, इसके लिए हरियाणा सरकार की अनुमति चाहिए। पीडब्ल्यूडी बीएंडआर के अधीक्षण अभियंता को पॉलिसी बनाने का काम सौंपा गया था।

- जीएमडीए के मुख्य अभियंता अरुण धनखड़ ने कहा, "एनएचएआई ने जीएमडीए से अनुरोध किया है कि दिल्ली-जयपुर राष्ट्रीय राजमार्ग पर बने अंडरपास का रखरखाव जीएमडीए करे।" अंडरपास की जांच में कमियां थीं। सड़क और दीवारों में दरार मिली हैं। NHAI अधिकारियों से इन कमियों को सुधारने की मांग की गई है। इसके बाद, जीएमडीए इन अंडरपास की देखभाल करेगी।:''