home page

बिना किसी कोचिंग के पहली कोशिश में IAS बनी ये महिला अधिकारी, जाने क्या है इनकी कामयाबी का मूलमंत्र

यूपीएससी (UPSC) का एग्जाम फटाफट क्रैक करना हर उम्मीदवार (Aspirants) का सपना होता है। ऐसी ही एक प्रेरणादायक कहानी है आईएएस अर्तिका शुक्ला (IAS Artika Shukla) की, जिन्होंने राजस्थान (Rajasthan) के...
 | 
Success Story of IAS Artika Shukla

यूपीएससी (UPSC) का एग्जाम फटाफट क्रैक करना हर उम्मीदवार (Aspirants) का सपना होता है। ऐसी ही एक प्रेरणादायक कहानी है आईएएस अर्तिका शुक्ला (IAS Artika Shukla) की, जिन्होंने राजस्थान (Rajasthan) के दूदू जिले के डीएम (DM) के रूप में अपने करियर की ऊंचाइयों को छूआ।

आईएएस अर्तिका शुक्ला की कहानी यह साबित करती है कि दृढ़ संकल्प (Determination) और समर्पण से कोई भी मुकाम हासिल किया जा सकता है। उनकी सफलता हम सभी के लिए एक प्रेरणा (Inspiration) है और यह दिखाती है कि कड़ी मेहनत और सही मार्गदर्शन (Guidance) से सपनों को साकार किया जा सकता है।

बिना कोचिंग के सफलता

आईएएस अर्तिका शुक्ला, जिन्होंने बिना किसी कोचिंग (Coaching) के अपने पहले ही प्रयास में UPSC CSE क्रैक किया और AIR 4 रैंक (Rank) हासिल की। उनकी सफलता उन सभी के लिए एक उदाहरण है, जो यह मानते हैं कि उच्च शिक्षा (Higher Education) और महंगी कोचिंग के बिना सफलता संभव नहीं है।

प्रेरणा का स्रोत

एमबीबीएस और एमडी (MBBS and MD) की डिग्री हासिल करने के बाद अर्तिका ने प्रशासनिक सेवा (Administrative Service) में जाने का निर्णय लिया। उन्होंने अपने भाई के नोट्स (Brother's Notes) के माध्यम से परीक्षा की तैयारी की और अपनी लगन और मेहनत (Hard Work) से यह सिद्ध कर दिया कि सफलता के लिए केवल समर्पण और अध्ययन की आवश्यकता होती है।

प्यार और साथी का साथ

अर्तिका शुक्ला और जसमीत सिंह (Jasmeet Singh) की प्रेम कहानी (Love Story) भी खास है। ट्रेनिंग (Training) के दौरान दोनों के बीच प्यार हुआ और 2017 में उन्होंने शादी कर ली। उनकी जोड़ी यह दर्शाती है कि सफलता और निजी जीवन (Personal Life) में संतुलन संभव है।