home page

धरती पर अमर रहने के लिए शख्स ने बदल ली अपनी पूरी डाइट, इन कामों को करके 5 साल कम कर ली खुद की उम्र

"अमर कोई भी नहीं," यह कहावत तो सभी ने सुनी होगी। लेकिन क्या हो अगर कोई व्यक्ति इस प्राकृतिक नियम को चुनौती देने का प्रयास करे? अमेरिकी अरबपति और टेक टाइकून ब्रायन जॉनसन ठीक यही कर रहे हैं।
 | 
bryan Johnson diet plan
   
WhatsApp Group Join Now

"अमर कोई भी नहीं," यह कहावत तो सभी ने सुनी होगी। लेकिन क्या हो अगर कोई व्यक्ति इस प्राकृतिक नियम को चुनौती देने का प्रयास करे? अमेरिकी अरबपति और टेक टाइकून ब्रायन जॉनसन ठीक यही कर रहे हैं। वे न केवल युवा दिखने की कोशिश में लगे हैं। बल्कि उनका दावा है कि पिछले तीन सालों में उन्होंने अपनी उम्र को 5 साल कम कर दिया है।

उम्र को उलटने की कोशिश 

ब्रायन जॉनसन का मानना है कि उन्होंने अपनी जैविक उम्र को उलटने की तकनीक विकसित की है। उन्होंने हाल ही में अपने एक यूट्यूब वीडियो में इसकी जानकारी साझा की। जिसमें उन्होंने दिखाया कि कैसे वे रोजाना चॉकलेट खाकर अपनी उम्र और स्वास्थ्य को प्रभावित कर रहे हैं।

जॉनसन का कहना है कि कुछ चीजें भले ही वे हमारे लिए अच्छी न लगें। उनके लाभ इतने अधिक होते हैं कि हमें उन्हें अपनाना चाहिए।

ये भी पढ़िए :- खाली पड़ी जमीन पर इस पेड़ की खेती करके कर सकते है कमाई, थोड़ी सी मेहनत से ही सालों तक होगी कमाई

चॉकलेट से मिलने वाले चमत्कारी लाभ

जॉनसन के अनुसार, चॉकलेट खाने से मस्तिष्क स्वस्थ रहता है, याददाश्त मजबूत होती है और हृदय शानदार ढंग से काम करता है। उन्होंने यह भी बताया कि चॉकलेट का चयन करते समय कुछ विशेष बातों का ध्यान रखना चाहिए।  

जैसे कि उसकी शुद्धता, हैवी मेटल्स की टेस्टिंग और हाई फ्लेवोनोल की मात्रा। उन्होंने यह भी साझा किया कि वे इसे अपनी कॉफी और सुपरफूड्स के साथ कैसे मिलाकर खाते हैं।

अमरता की खोज में विज्ञान और प्रयोग

ब्रायन जॉनसन ने अपने प्रोजेक्ट 'ब्लूप्रिंट' में भारी निवेश किया है। जिसका उद्देश्य कोई ऐसी दवा या तकनीक विकसित करना है जो इंसान को अमर बना सके। उनका मानना है कि विज्ञान की मदद से जीवन की अवधि को बढ़ाना संभव है। उनके इस प्रयास ने दुनिया भर के विज्ञान समुदाय में भी रुचि जगाई है।

ये भी पढ़िए :- इस SUV गाड़ी के बेस मॉडल ने ही ऑटो मार्केट में मचाया धमाल, 6 एयरबैग और ADAS के साथ मिल रहे है ये तगड़े फिचर्स

नैतिकता और विज्ञान के बीच संतुलन

जबकि जॉनसन के प्रयास शानदार हैं। यह भी महत्वपूर्ण है कि हम नैतिकता और विज्ञान के बीच संतुलन बनाए रखें। अमरता की खोज न केवल वैज्ञानिक उत्सुकता को जन्म देती है। बल्कि यह व्यापक सामाजिक, नैतिक और दार्शनिक प्रश्नों को भी उठाती है। इसलिए इस प्रकार के प्रयोगों में सावधानी और गहन विचार-विमर्श आवश्यक है।