home page

Today Garlic Price: टमाटर के बाद लहसुन की कीमतों ने लोगों को दिलाई नानी याद, एक किलो लहसुन की कीमत सुनकर तो आपके भी उड़ जाएंगे होश

मध्यप्रदेश में लहसुन (Garlic) की कीमतों में हाल ही में अचानक से बड़ी तेजी आई है। कुछ ही दिनों पहले जहां लहसुन के दाम 25 से 50 रुपए प्रति किलो (Price per Kilogram) के बीच थे, वहीं अब यह 400 रुपए से भी अधिक हो गए हैं।
 | 
garlic Price hike (1)

मध्यप्रदेश में लहसुन (Garlic) की कीमतों में हाल ही में अचानक से बड़ी तेजी आई है। कुछ ही दिनों पहले जहां लहसुन के दाम 25 से 50 रुपए प्रति किलो (Price per Kilogram) के बीच थे, वहीं अब यह 400 रुपए से भी अधिक हो गए हैं। इस अचानक आई तेजी ने मंडियों (Markets) में लहसुन की मांग (Demand) पर भी प्रभाव डाला है।

उत्पादन में गिरावट और दामों में वृद्धि

पिछले साल बड़े घाटे (Loss) के कारण, जिससे किसानों (Farmers) ने खेती (Agriculture) कम कर दी, इसके परिणामस्वरूप बाजार में लहसुन की कीमत में इजाफा हुआ। उज्जैन (Ujjain) के एक थोक व्यापारी (Wholesale Trader) के अनुसार, पिछले साल के नुकसान ने किसानों को इस वर्ष लहसुन की खेती से दूर रखा।

मध्य प्रदेश का मालवा संभाग लहसुन उत्पादन में अग्रणी

मध्य प्रदेश के मालवा संभाग (Malwa Region) को लहसुन उत्पादन (Garlic Production) में सबसे आगे माना जाता है। हालांकि, अधिक नुकसान के कारण एक साल में उत्पादन 10 प्रतिशत (Percent) कम हो गया है। उत्पादन में इस गिरावट का असर सीधे तौर पर बाजार (Market Impact) पर दिख रहा है।

पिछले साल के नुकसान से सबक

पिछले साल लहसुन के कम दाम मिलने से किसानों को हजारों रुपये का नुकसान (Financial Loss) हुआ था। इस नुकसान के कारण किसानों ने इस बार फसल (Crop) कम लगाई, जिससे मांग के अनुपात में लहसुन की आवक (Supply) कम हो गई है।

बाजार में स्थिरता की उम्मीद

विशेषज्ञों (Experts) का मानना है कि अगर आगामी सीजन में लहसुन की खेती में वृद्धि होती है, तो बाजार में कीमतों की स्थिरता (Price Stability) आ सकती है। किसानों को भी अपनी खेती की योजनाओं (Farming Plans) में बदलाव करते हुए, अधिक उत्पादकता (Productivity) और लागत में कमी की दिशा में काम करने की जरूरत है।