home page

Traffic Challan: गाड़ी मोटर लेकर निकल रहे है तो पास में रख लेना ये जरुरी डॉक्युमेंट, वरना कट सकता है चालान

भारत ने वैश्विक स्तर पर ऑटोमोबाइल बाजार में अपना स्थान मजबूत किया है और अब यह दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा ऑटोमोबाइल बाजार बन चुका है।
 | 
traffic-challan-keep-these-important
   

भारत ने वैश्विक स्तर पर ऑटोमोबाइल बाजार में अपना स्थान मजबूत किया है और अब यह दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा ऑटोमोबाइल बाजार बन चुका है। भारतीय सड़कों पर बिकने वाली कारों, बाइकों और स्कूटरों की संख्या हर साल बढ़ रही है, जिससे यह स्पष्ट होता है कि भारतीय बाजार में ऑटोमोबाइल की मांग में लगातार वृद्धि हो रही है।

ड्राइविंग के दौरान सुरक्षा और समस्याएं

बढ़ती हुई वाहनों की संख्या के साथ, कानून प्रवर्तन एजेंसियों के लिए सभी ड्राइवरों पर नजर रखना एक कठिन कार्य बन गया है। पिछले कुछ वर्षों में, विभिन्न स्थानों पर मोटर चालकों के साथ पुलिस द्वारा अनुचित व्यवहार की घटनाएं सामने आई हैं। ऐसे में यह अत्यंत आवश्यक हो जाता है कि ड्राइवरों और पुलिस कर्मियों के बीच बात स्पष्ट और सरल हो।

सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय के नए निर्देश

इस समस्या का समाधान करने के लिए सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय (एमओआरटीएच) ने कुछ नए नियम जारी किए हैं\ जो न केवल ड्राइवरों के लिए सहायक हैं बल्कि कानून प्रवर्तन के लिए भी डॉक्युमेंट्स की जांच करना सरल हैं।

डिजिटल दस्तावेज़ीकरण

अब ड्राइवरों को अपने साथ भौतिक दस्तावेज़ ले जाने की आवश्यकता नहीं है। ड्राइविंग लाइसेंस, वाहन पंजीकरण, और प्रदूषण नियंत्रण प्रमाणपत्र को डिजी-लॉकर या एम-परिवहन एप्लिकेशन के माध्यम से डिजिटल रूप में दिखाया जा सकता है। यह न केवल पर्यावरण के अनुकूल है बल्कि दस्तावेज़ों को संभालने और रखरखाव के झंझट से भी मुक्ति दिलाता है।

ड्राइविंग बिना दस्तावेज़ों के

यदि चालक के पास मोबाइल फोन नहीं है या वह डिजिटल दस्तावेज़ प्रस्तुत नहीं कर पा रहे हैं तो भी कानून प्रवर्तन एजेंसियां उनके ड्राइविंग लाइसेंस और वाहन पंजीकरण की जानकारी एम-परिवहन या ई-चालान ऐप के माध्यम से सत्यापित कर सकती हैं। यह प्रक्रिया समय की बचत करती है और ड्राइवरों को अनावश्यक परेशानी से मुक्ति दिलाती है।

यह भी पढ़ें; 

ई-चालान

ट्रैफिक नियमों के उल्लंघन पर चालकों को अब ई-चालान प्राप्त होगा। इससे जुर्माने का भुगतान ऑनलाइन आसानी से किया जा सकता है जिससे समय की बचत होती है और लेन-देन पारदर्शी तथा सुरक्षित होता है।