home page

केदारनाथ और बद्रीनाथ समेत इन चारों धाम पर नही बना पाएंगे विडियो, रिल्स और विडियो बनाने वालों पर होगी कार्रवाई

भारत के चार पवित्र धामों - केदारनाथ, बदरीनाथ, गंगोत्री, और यमुनोत्री में नई व्यवस्था के अंतर्गत अब मंदिर परिसरों के 50 मीटर के दायरे में मोबाइल फोन के इस्तेमाल पर पूर्णतया प्रतिबंध लगा दिया गया है।
 | 
mobile-phones-banned-within-chardham-kedarnath
   

भारत के चार पवित्र धामों - केदारनाथ, बदरीनाथ, गंगोत्री, और यमुनोत्री में नई व्यवस्था के अंतर्गत अब मंदिर परिसरों के 50 मीटर के दायरे में मोबाइल फोन के इस्तेमाल पर पूर्णतया प्रतिबंध लगा दिया गया है। इस पहल का मुख्य उद्देश्य धामों में श्रद्धा और आस्था के माहौल को बनाए रखना है खासकर जब लोग सोशल मीडिया पर रील्स और वीडियो बनाने में व्यस्त रहते हैं।

व्यवधान और भ्रामक सूचनाओं के खिलाफ कदम

मंदिर परिसरों में मोबाइल का उपयोग करने वाले और विशेषकर सोशल मीडिया पर गलत संदेश वायरल करने वाले यात्रियों के खिलाफ कठोर कार्यवाही की जाएगी। धार्मिक स्थलों पर फैलाई जाने वाली भ्रामक जानकारी के चलते न केवल श्रद्धालुओं की भावनाएं आहत होती हैं बल्कि यह पवित्र स्थलों की गरिमा को भी प्रभावित करती है। इसलिए ऐसी गतिविधियों के लिए सीधे एफआईआर दर्ज की जाएगी।

यात्रा के दौरान अनुशासन की आवश्यकता

चारधाम यात्रा में इस वर्ष पिछले सालों की तुलना में अधिक श्रद्धालु आ रहे हैं जिससे यात्रा स्थलों पर अत्यधिक भीड़ हो रही है। इस बढ़ती भीड़ को संभालने के लिए और यात्रा को अधिक आसान बनाने के लिए नियंत्रण की व्यवस्था की गई है। यात्रियों को यात्रा के दौरान सभी नियमों का पालन करने और अन्य यात्रियों के लिए असुविधा न पैदा करने की सख्त हिदायत दी गई है।

हमारा Whatsapp ग्रूप जॉइन करें Join Now

सोशल मीडिया पर भ्रम का निवारण

सोशल मीडिया पर फैलाए जा रहे भ्रामक वीडियो और संदेशों को रोकने के लिए भी कड़े कदम उठाए गए हैं। इन वीडियो में अक्सर पुरानी और गलत सूचनाएं दी जाती हैं जिससे यात्रियों में अनावश्यक भ्रम और अफवाहें फैलती हैं। इस प्रकार के कामों के खिलाफ सख्ती से कार्रवाई की जाएगी।

यात्रा का उचित प्रबंध

चारधाम यात्रा के लिए आने वाले यात्रियों को यह सुनिश्चित करने की सलाह दी जाती है कि वे अपने दर्शन के स्लॉट से तीन या चार दिन पहले या बाद में न आएं। इसके अतिरिक्त चेकपोस्ट पर उन यात्रियों को रोका जाएगा जिनके दर्शन के दिन निर्धारित तारीख से अधिक दूर हों। इससे यात्रा के दौरान अनुशासन और सुव्यवस्था सुनिश्चित हो सकेगी।