home page

इन आदतों वाले शादीशुदा मर्दों से कुंवारी लड़कियां करती है नफरत, जवां लड़के टाइम रहते सुधार ले अपनी ये आदत

भारतीय इतिहास के महान विचारक और कुटनीतिज्ञ आचार्य चाणक्य ने मानव जीवन के विभिन्न पहलुओं पर गहन चिंतन किया है। उनके नीति शास्त्र में व्यक्त किए गए विचार आज भी हमारे समाज में प्रासंगिक हैं, खासकर वैवाहिक....
 | 
Chanakya Niti for women (5)
   

भारतीय इतिहास के महान विचारक और कुटनीतिज्ञ आचार्य चाणक्य ने मानव जीवन के विभिन्न पहलुओं पर गहन चिंतन किया है। उनके नीति शास्त्र में व्यक्त किए गए विचार आज भी हमारे समाज में प्रासंगिक हैं, खासकर वैवाहिक संबंधों में। आचार्य चाणक्य की इन नीतियों से हमें वैवाहिक संबंधों में संतुलन और सामंजस्य बनाए रखने का महत्वपूर्ण पाठ मिलता है।

एक स्वस्थ और सुखी वैवाहिक जीवन के लिए पारस्परिक सम्मान, विश्वास और समझदारी अत्यंत आवश्यक हैं। आचार्य चाणक्य की ये नीतियां हमें व्यक्तिगत विकास के साथ-साथ बेहतर सामाजिक संबंधों की ओर ले जाने का मार्गदर्शन करती हैं।

पति के आचरण की महत्वपूर्णता

चाणक्य ने पति-पत्नी के संबंधों में आचरण की महत्वपूर्णता पर जोर दिया है। वह कहते हैं कि एक पति का आचरण न केवल उसकी पत्नी की नज़रों में उसे साबित करता है बल्कि उसके चरित्र को भी प्रतिबिंबित करता है।

बुरी लत

आचार्य चाणक्य के अनुसार अगर कोई पति मादक पदार्थों का सेवन करता है, शराब पीता है या जुआ खेलने का आदी है, तो ऐसे पतियों की पत्नियां उनसे प्रसन्न नहीं रहतीं। ऐसी बुरी लतें वैवाहिक संबंधों में विषाक्तता घोल देती हैं।

झूठ

एक ईमानदारी भरा व्यवहार पति-पत्नी के बीच के संबंध को मजबूत बनाता है। चाणक्य के अनुसार अगर एक पति अपनी पत्नी से झूठ बोलता है, तो इससे उसकी पत्नी में विश्वास की कमी आ जाती है और संबंधों में दरार पड़ जाती है।

चरित्रहीनता

चाणक्य कहते हैं कि एक पुरुष का चरित्र अगर खराब है और उसके अपनी पत्नी के अलावा अन्य स्त्रियों के साथ अवैध संबंध हैं, तो ऐसे पति को कोई भी स्त्री पसंद नहीं करती। ऐसा आचरण संबंधों में घृणा और अविश्वास को जन्म देता है।

राज का खुलासा

चाणक्य नीति के अनुसार यदि एक पति अपनी पत्नी द्वारा बताई गई गोपनीय बातों या राजों को दूसरों के सामने उजागर करता है, तो इससे पत्नी में गहरी निराशा और असुरक्षा की भावना पैदा होती है।