home page

Water Crisis: हमारी धरती पर केवल सीमित मात्रा में ही है पानी, अगर खत्म हो जाए तो इंसान क्या करेगा

इंसानों के जीवित रहने का आधार एक शब्द नहीं है, बल्कि पानी है। पानी की उपलब्धता का पता लगाने के लिए दुनिया भर के वैज्ञानिक अरबों डॉलर खर्च करके रॉकेट भेज रहे हैं। अब चंद्रयान-3 भी चंद्रमा पर गया है ताकि...
 | 
drinking Water Crisis

इंसानों के जीवित रहने का आधार एक शब्द नहीं है, बल्कि पानी है। पानी की उपलब्धता का पता लगाने के लिए दुनिया भर के वैज्ञानिक अरबों डॉलर खर्च करके रॉकेट भेज रहे हैं। अब चंद्रयान-3 भी चंद्रमा पर गया है ताकि इसी बात का पता लगाया जा सके। और कुछ जानेगा।

हमने कहा कि हमारे लिए पानी की महत्वपूर्ण आवश्यकता समझनी चाहिए। आप इसे खरीद सकते हैं, लेकिन नहीं बना सकते। यह कुदरत का अनमोल वरदान है जो इंसानों को मिला है। धरती पर हर दिन पीने का पानी कम हो रहा है। जनसंख्या का विस्तार तेजी से हो रहा है। जब जनसंख्या बढ़ेगी, तो खपत भी बढ़ेगी।

उसके लिए उत्पादन भी बढ़ाना पड़ेगा, लेकिन क्योंकि पानी किसी कंपनी में नहीं बनाया जाता, इसलिए उत्पादन बढ़ाने का प्रश्न ही नहीं उठता। यही कारण है कि सबसे महत्वपूर्ण सवाल यह है कि अगर धरती का पानी खत्म हो गया तो क्या होगा? आइए इसका जवाब खोजें। 

पानी की कमी से दुनिया संकट में?

पृथ्वी को पानी की कमी से कुछ गंभीर परिणाम होते हैं। यह कैलिफोर्निया की इंपीरियल वैली में दिखाई देता है, जहां पिछले सौ वर्षों में भूजल की तेजी से कमी के कारण जमीन 100 फीट तक गिर गई है। पर्यावरण वैज्ञानिकों का मानना है कि भूजल के दोहन से क्षेत्र धंस सकता है और भूकंप का खतरा भी बढ़ सकता है।

पृथ्वी की परत कम हो रही है। बाद में, अत्यधिक उत्प्लावन परत ऊपर उठने लगेगी, फॉल्ट लाइनों पर दबाव कम हो जाएगा और टेक्टोनिक प्लेट में हलचल होगी, जो भूकंप का कारण बनेगी। इसके अलावा, अध्ययन से पता चला है कि सिएरा नेवादा पर्वत की ऊंचाई हर साल कुछ मिलीमीटर अधिक बढ़ जाती है क्योंकि भूजल पंपिंग होती है।

भविष्यवाणी सही हो सकती है

पानी की कमी दुनिया भर में लोगों पर घातक होगी। 1995 में विश्व बैंक के उपाध्यक्ष इस्माइल सेरागेल्डिन ने कहा था कि अगली सदी के युद्ध पानी के लिए होंगे, और वह सही था। वर्तमान समय में दुनिया को लड़ने के लिए बहुत कुछ है।

तेल, गैस, धर्म, राजनीति और अन्य मुद्दों के अलावा, दिन के अंत में सिर्फ पानी है जो जीवन और मृत्यु को अलग करता है। यह जीवन निर्धारित करता है। ताजा, स्वच्छ पेयजल तक पहुंच सुनिश्चित करने की लड़ाई में दुनिया पागल हो जाएगी अगर H20 खत्म हो जाए। अमेरिका में पहले से ही 35 राज्यों में पानी की आपूर्ति को लेकर संघर्ष चल रहा है।

नासा पहले से ही वेस्ट मटेरियल सहित हमारे पास मौजूद हर बूंद पानी का रीसाइक्लिंग करने पर काम कर रहा है। अंतरिक्ष जहाजों पर इस अवधारणा का उपयोग पहले से ही किया जा रहा है, लेकिन यह किसी भी जल संकट को हल करने के लिए एक उपयुक्त समाधान भी हो सकता है।