home page

धरती से अचानक ही पूरी तरह से शराब गायब हो जाए तो क्या होगा, असलियत तो आप सोच भी नही सकते

शराब मानव सभ्यता के आरंभ से ही हमारे साथ है। इसका इतिहास कृषि और सभ्यताओं के विकास के साथ गहराई से जुड़ा है। पूरे विश्व में यह पेय विभिन्न सामाजिक और धार्मिक कार्यक्रमों का एक हिस्सा रहा है।
 | 
अगर धरती से शराब यकायक पूरी तरह से गायब हो जाए तो क्या होगा...
   

शराब मानव सभ्यता के आरंभ से ही हमारे साथ है। इसका इतिहास कृषि और सभ्यताओं के विकास के साथ गहराई से जुड़ा है। पूरे विश्व में यह पेय विभिन्न सामाजिक और धार्मिक कार्यक्रमों का एक हिस्सा रहा है। वर्ष 2018 में 15 वर्ष और उससे अधिक आयु के लोगों ने औसतन 6.2 लीटर शराब का सेवन किया जो इसकी जरूरत के बारे में बताता है।

स्वास्थ्य पर शराब का असर 

जबकि शराब का सीमित सेवन कुछ स्थानों पर स्वास्थ्य लाभ के लिए अनुशंसित किया जाता है वहीं इसका अधिक सेवन विभिन्न स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बनता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन की चेतावनी के अनुसार शराब का अत्यधिक सेवन न केवल व्यक्ति के स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है, बल्कि यह सामाजिक हानियों का भी कारण बन सकता है।

शराब न हो तो क्या होगा 

यदि कल्पना की जाए कि शराब एक दिन अचानक धरती से गायब हो जाए तो इसके कई व्यापक परिणाम सामने आएंगे। संभवत शराब से जुड़ी मौतों में भारी कमी आएगी और नशे की हालत में होने वाली दुर्घटनाएँ और हिंसा में भी गिरावट आएगी।

शराब पर प्रतिबंध

विभिन्न देशों में शराब पर प्रतिबंध लागू करने के प्रयास किए गए हैं लेकिन इसके परिणामस्वरूप अक्सर अवैध नशीले पदार्थों की मांग और सेवन में बढ़ोतरी हुई है। सऊदी अरब और ईरान जैसे देशों में जहां शराब पर कड़े प्रतिबंध हैं नशीली दवाओं के उपयोग में बड़ी बढ़ोतरी देखी गई है।