home page

पंजाब की मंडियों में MSP रेट्स पर गेंहु की खरीदारी हुई शुरू, किसानों के लिए बनाए गये है 1900 खरीद केंद्र

पंजाब राज्य में गेहूं की खरीद के लिए इस वर्ष विशेष तैयारियां की गई हैं। रबी मार्केटिंग सीजन (RMS) 2024-25 के शुरू होने के साथ, सरकार ने कुल 1,908 खरीद केंद्र स्थापित किए हैं। यह व्यवस्था खरीद प्रक्रिया को सुगम बनाने और किसानों को उनके गेहूं के उचित मूल्य सुनिश्चित करने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है।

 | 
wheat-procurement-punjab-farmers-and-agriculture
   

पंजाब राज्य में गेहूं की खरीद के लिए इस वर्ष विशेष तैयारियां की गई हैं। रबी मार्केटिंग सीजन (RMS) 2024-25 के शुरू होने के साथ, सरकार ने कुल 1,908 खरीद केंद्र स्थापित किए हैं। यह व्यवस्था खरीद प्रक्रिया को सुगम बनाने और किसानों को उनके गेहूं के उचित मूल्य सुनिश्चित करने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है।

वित्तीय तैयारियां और जरूरतें

इस साल, खरीद एजेंसियों को 115.50 लाख मीट्रिक टन फसल खरीदने की योजना है जिसके लिए 30,776 करोड़ रुपये की कैश क्रेडिट लिमिट (सीसीएल) की आवश्यकता प्रतीत होती है। इस संबंध में पहले ही 27,077.91 करोड़ रुपये की सीसीएल प्राप्त हो चुकी है। साथ ही गेहूं की पैकिंग के लिए 4.62 लाख जूट बैग्स की आवश्यकता है जिसमें से 3.51 लाख बैग्स मिल चुके हैं।

फसल की पकाई में देरी

हालांकि खरीद सत्र के पहले दिन किसी भी मंडी में कोई भी किसान गेहूं लेकर नहीं पहुंचा जिसका मुख्य कारण फसल का पूरी तरह से पक नहीं पाना है। इस स्थिति को बीते सप्ताह हुई बारिश और तापमान में आई गिरावट से जोड़ा जा रहा है।

खेती की पूरी जानकारी 

इस साल पंजाब में लगभग 35 लाख हेक्टेयर में गेहूं की बुवाई की गई थी जिससे राज्य में कुल उपज 161 लाख टन को पार करने की उम्मीद है। केंद्र सरकार ने राज्य से 130 लाख टन गेहूं खरीदने का लक्ष्य निर्धारित किया है। गेहूं के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य 2,275 रुपये प्रति क्विंटल तय किया गया है।

अवैध प्रवेश पर पाबंदी 

राज्य में अन्य राज्यों से गेहूं के अवैध प्रवेश को रोकने के लिए पुलिस और पंजाब मंडी बोर्ड को अंतरराज्यीय बाधाओं पर चौकियां स्थापित करने के निर्देश दिए गए हैं।