home page

देसी और अंग्रेजी शराब में से किसमें होता है ज्यादा नशा, हर रोज पीने वालों को भी नही होती सही जानकारी

जब भी शराब (Alcohol) की बात आती है, तो अलग-अलग ब्रांड्स (Brands) के नाम जेहन में आ जाते हैं। शराब की दुनिया में देसी (Desi) और अंग्रेजी (English) शराब के बीच का अंतर समझना बेहद दिलचस्प है।
 | 
different-is-english-wine-from-country-wine

जब भी शराब (Alcohol) की बात आती है, तो अलग-अलग ब्रांड्स (Brands) के नाम जेहन में आ जाते हैं। शराब की दुनिया में देसी (Desi) और अंग्रेजी (English) शराब के बीच का अंतर समझना बेहद दिलचस्प है। आइए जानते हैं कि इन दोनों में क्या मुख्य अंतर होता है।

इस लेख में देसी और अंग्रेजी शराब के बीच के मुख्य अंतरों को समझाया गया है। देसी शराब का अपना एक अलग फ्लेवर और संस्कृति (Culture) है, जो इसे भारतीय समाज में एक विशेष स्थान प्रदान करती है।

फिर भी, शराब के सेवन को लेकर समझदारी और संयम बरतना चाहिए, खासकर देसी शराब के मामले में, जिसमें अल्कोहल की मात्रा अधिक होती है।

शराब की मेकिंग प्रक्रिया

आपको जानकर हैरानी होगी कि देसी और अंग्रेजी शराब की तैयारी (Wine Making Process) में मौलिक रूप से कोई बड़ा अंतर नहीं होता। दोनों ही शराब को फर्मेंटेशन (Fermentation) और डिस्टिलेशन (Distillation) प्रक्रिया से गुजारा जाता है। देसी शराब ज्यादातर शीरे और अन्य कृषि उत्पादों (Agricultural Products) से बनती है और इसकी पैकिंग अक्सर पॉलिथीन (Polythene) या प्लास्टिक की बोतलों (Plastic Bottles) में की जाती है।

देसी शराब की विशेषताएं

देसी शराब मूल रूप से प्योरिफाइड स्पिरिट (Purified Spirit) होती है और इसमें विशेष फ्लेवर्स (Flavors) का प्रयोग नहीं होता। इसका स्वाद और गंध उस उत्पाद पर निर्भर करती है, जिससे यह बनी होती है। देसी शराब में एक तेज गंध (Strong Smell) होती है, जो इसे अंग्रेजी शराब से अलग करती है।

शराब की बिक्री में देसी का दबदबा

भारत में बिकने वाली शराब का लगभग दो तिहाई हिस्सा देसी शराब (Desi Liquor) का होता है। इसकी बिक्री प्रतिवर्ष 7% की दर से बढ़ रही है। देसी शराब में अल्कोहल (Alcohol Content) की मात्रा भी 42.5% तक होती है, जो इसे अंग्रेजी शराब से विभिन्न बनाती है।

देसी दारू के विविध नाम

अंग्रेजी शराब के ब्रांड्स पूरे देश में एक जैसे नामों से बिकते हैं, लेकिन देसी शराब के नाम राज्य दर राज्य भिन्न होते हैं। पश्चिम बंगाल (West Bengal) और झारखंड (Jharkhand) में टॉल बॉय (Tall Boy), हीर रांझा (Heer Ranjha), घूमर (Ghoomar), जीएम संतरा (GM Santra) और जीएम लिंबू पंच (GM Limbu Punch) जैसे अनेक नामों से देसी शराब बिकती है।