home page

पुलिस की वर्दी का केवल खाकी रंग ही क्यों होता है? प्लासी के युद्ध से है खास कनेक्शन

सब पुलिस के डर से कांपते हैं। अगर वह कुछ गलत कर रहे हैं या कोई गैरकानूनी काम कर रहे हैं। हर नागरिक यह जानता है और इसके चलते गैरकानूनी कार्य करने से डरता है कि पुलिस उसे पकड़ लेगी।
 | 
police dress Color

सब पुलिस के डर से कांपते हैं। अगर वह कुछ गलत कर रहे हैं या कोई गैरकानूनी काम कर रहे हैं। हर नागरिक यह जानता है और इसके चलते गैरकानूनी कार्य करने से डरता है कि पुलिस उसे पकड़ लेगी। क्या आपने कभी सोचा है कि खाकी में पुलिस के कपड़े का रंग क्यों अलग होता है?

क्या संविधान में इसे लेकर कोई कानून पारित किया गया है या इसके पीछे कोई विशिष्ट कारण है? आखिर क्या कारण है कि देश के लगभग सभी राज्यों की पुलिस वर्दी खाकी रंग की होती है? इसे आज की कहानी में बताएंगे। 

केवल खाकी रंग क्यों?

भारतीय पुलिस की वर्दी का खाकी रंग असली पहचान है। प्रत्येक पुलिसकर्मी अपनी वर्दी से बहुत प्यार करता है। ऐसा नहीं है कि पुलिस हर जगह खाकी रंग की वर्दी पहनती है। पश्चिम बंगाल पुलिस अभी भी खाकी वर्दी पहनती है, लेकिन कोलकाता पुलिस अभी भी सफेद वर्दी पहनती है।

पुलिस वर्दी की रंगत को समझने के लिए हमें थोड़ा पीछे जाना होगा। बात तब की है जब अंग्रेज भारत आये तो भारतीय पुलिस विभाग की वर्दी खाकी के बजाय सफेद रंग की हुआ करती थी. लेकिन सफेद रंग की वर्दी की एक समस्या थी कि ये जल्दी गंदी हो जाती थी जब वे लंबे समय तक काम करते थे। पुलिस को इससे काफी परेशानी हुई।

ऐसे होता है यह रंग तैयार

ब्रिटिश अधिकारियों ने बाद में वर्दी बदलने की योजना बनाई। पुलिस ने इस दौरान एक डाई बनाई, जिसका रंग 'खाकी' था। इस रंग को पहले चाय की पत्तियों से बनाया जाता था, लेकिन आजकल सिंथेटिक रंगों का उपयोग किया जाता है। बाद में पुलिसकर्मियों ने अपनी वर्दी को सफेद रंग से बदल दिया।

हल्के पीले और भूरे रंगों का मिश्रण खाकी रंग है। देश की आजादी से 100 साल पहले, 1847 में, 'नॉर्थवेस्ट फ्रंटियर' के गवर्नर के एजेंट सर हेनरी लॉरेंस ने खाकी रंग की वर्दी पहनते हुए पुलिसकर्मियों को देखा। दिसंबर 1846 में, लॉरेंस ने लाहौर में 'कोर ऑफ गाइड फोर्स' की स्थापना की।

यह बल उत्तर-पश्चिम सीमा पर सेवा करने वाली ब्रिटिश भारतीय सेना की एक रेजिमेंट था। इस प्रकार, भारतीय पुलिस विभाग की आधिकारिक वर्दी 'सफ़ेद' से बदलकर आज भी 'खाकी' है। केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF), देश का सबसे बड़ा अर्धसैनिक बल, हाल ही में अपने 3 लाख से अधिक कर्मियों की खाकी वर्दी को बदलने की मांग करता है।