home page

यूपी में फ्री राशन वितरण को लेकर तारीख आई सामने, जाने इस महीने किस तारीख को मिलना शुरू होगा गेंहु और चावल

लखनऊ में इस माह राशन का नि:शुल्क वितरण 14 मई से 29 मई के बीच किया जाएगा। लखनऊ के डीएसओ, विजय प्रताप सिंह के अनुसार पात्र गृहस्थी कार्डधारकों को प्रति यूनिट दो किलो गेहूं और तीन किलो चावल यानी....
 | 
Free ration distribution date
   
WhatsApp Group Join Now

लखनऊ में इस माह राशन का नि:शुल्क वितरण 14 मई से 29 मई के बीच किया जाएगा। लखनऊ के डीएसओ, विजय प्रताप सिंह के अनुसार पात्र गृहस्थी कार्डधारकों को प्रति यूनिट दो किलो गेहूं और तीन किलो चावल यानी कुल पांच किलो अनाज प्राप्त होगा।

वहीं अंत्योदय कार्डधारकों को 14 किलो गेहूं और 21 किलो चावल यानी कुल 35 किलो अनाज मिलेगा। लखनऊ में राशन के नि:शुल्क वितरण का आयोजन एक सुव्यवस्थित और समयबद्ध तरीके से किया जा रहा है। जिससे शहर के नागरिकों को समय पर और बिना किसी परेशानी के खाद्य सामग्री मिल सके।

पोर्टेबिलिटी और प्रमाणिकता की सुविधा

राशन कार्डधारकों को पोर्टेबिलिटी की सुविधा भी प्रदान की जाएगी। जिसके तहत वे किसी भी राशन दुकान से अपना हिस्सा प्राप्त कर सकेंगे। यह सुविधा आधार प्रमाणीकरण के माध्यम से उपलब्ध होगी।

वितरण के अंतिम दिन 29 मई को जो कार्डधारक अभी तक राशन प्राप्त नहीं कर पाए होंगे। उन्हें मोबाइल ओटीपी वेरीफिकेशन के जरिए राशन मिल सकेगा।

समय-सीमा के भीतर राशन वितरण

विजय प्रताप सिंह ने बताया कि सभी कार्डधारकों को 14 मई से 29 मई तक राशन दुकानों पर राशन वितरित किया जाएगा। आखिरी तिथि पर जिन उपभोक्ताओं ने अभी तक अपना खाद्यान्न प्राप्त नहीं किया होगा। उन्हें मोबाइल ओटीपी वेरीफिकेशन के माध्यम से यह सुविधा प्रदान की जाएगी।

वितरण में सुचारुता बनाए रखने के उपाय

डीएसओ ने यह भी सुनिश्चित किया है कि राशन की दुकानों पर खाद्यान्न वितरण में किसी प्रकार की दिक्कत न हो। इसके लिए पर्याप्त व्यवस्था की गई है और स्टॉक की उपलब्धता सुनिश्चित की गई है।

विशेष निर्देश और आयुष्मान कार्ड के प्रचार प्रसार

उचित दर विक्रेताओं को विशेष निर्देश दिए गए हैं कि छह या उससे अधिक यूनिट वाले राशनकार्ड धारकों और 60 वर्ष से अधिक आयु वाले व्यक्तियों के लिए आयुष्मान भारत गोल्डन कार्ड बनवाने में मदद की जाए। इसके लिए बारकोड का उपयोग करके प्रचार-प्रसार किया जाएगा ताकि अधिकतम लोग इस योजना का लाभ उठा सकें।