home page

यूपी में योगी सरकार ने लोगों की इस मांग को किया पूरा, मुफ्त बिजली के लिए रजिस्‍ट्रेशन की आगे बढ़ाई तारीख

उत्तर प्रदेश सरकार ने किसानों को एक बड़ी राहत देते हुए सिंचाई के लिए मुफ्त बिजली योजना के पंजीकरण की अंतिम तारीख को 15 जुलाई तक बढ़ा दिया है।
 | 
free-electricity-for-farmers
   

उत्तर प्रदेश सरकार ने किसानों को एक बड़ी राहत देते हुए सिंचाई के लिए मुफ्त बिजली योजना के पंजीकरण की अंतिम तारीख को 15 जुलाई तक बढ़ा दिया है। पहले यह तारीख 30 जून को समाप्त होने वाली थी लेकिन सरकार के नए फैसले से किसानों को और समय मिल जाएगा। इस योजना के तहत उत्तर प्रदेश के किसान अपनी सिंचाई आवश्यकताओं के लिए मुफ्त बिजली प्राप्त कर सकेंगे जिससे उनकी खेती की लागत में कमी आएगी और आय में बढ़ोतरी होगी।

पंजीकरण में आई बाधाएँ और उपभोक्ता फोरम की भूमिका

विद्युत उपभोक्ता फोरम के अध्यक्ष अवधेश वर्मा के अनुसार पंजीकरण की प्रक्रिया में अनेक शर्तें ऐसी थीं जो किसानों के लिए बाधक बन रही थीं। इसके कारण अब तक केवल 80,000 किसानों ने ही पंजीकरण कराया था जबकि लक्ष्य लगभग 14 लाख किसानों को इस योजना का लाभ पहुंचाने का है। फोरम ने सरकार से न केवल पंजीकरण की तारीख बढ़ाने बल्कि पंजीकरण की शर्तों को भी शिथिल करने की मांग की थी ताकि अधिक से अधिक किसान इस योजना का लाभ उठा सकें।

रोस्टर समाप्ति और 24 घंटे बिजली आपूर्ति की मांग

उपभोक्ता परिषद ने यह भी मांग की है कि उत्तर प्रदेश में बिजली आपूर्ति का रोस्टर समाप्त कर 24 घंटे निरंतर बिजली दी जाए। इससे न केवल कृषि गतिविधियाँ बेहतर ढंग से संचालित हो सकेंगी, बल्कि ग्रामीण क्षेत्रों में अन्य उपयोगों के लिए भी बिजली की निर्बाध आपूर्ति सुनिश्चित हो सकेगी। यह मांग विशेषकर इसलिए की गई है क्योंकि अभी तक प्रदेश के कई हिस्सों में बिजली की आपूर्ति में बड़ी अनियमितताएं हैं जिससे किसान और ग्रामीण जनता को कई प्रकार की समस्या हो रही हैं।

हमारा Whatsapp ग्रूप जॉइन करें Join Now

सरकारी पहल के असर और किसानों की अपेक्षाएँ

यह योजना किसानों के लिए एक महत्वपूर्ण कदम है क्योंकि इससे उन्हें अपनी खेती की लागत कम करने में मदद मिलेगी। सरकार की इस पहल से यह सुनिश्चित होता है कि कृषि सेक्टर को सहायता मिले और किसानों की आर्थिक स्थिति में सुधार हो। इसके साथ ही किसान यह उम्मीद कर रहे हैं कि सरकार आगे भी ऐसे कदम उठाएगी जो उनके लिए व्यावहारिक और फायदेमंद हों और उन्हें खेती करने में अधिक सहूलियत मिले।